उज्जैन के इन मंदिरों में दर्शन और पूजन से अधिक मास में  मिलता है शुभ फल 

उज्जैन के इन मंदिरों में दर्शन और पूजन से अधिक मास में  मिलता है शुभ फल 


भोपाल[महामीडिया] अश्विन अधिक मास की शुरुआत हो गई है। एक माह तक श्रद्घालु नौ नारायण, सप्त सागर व चौरासी महादेव मंदिरों में दर्शन, पूजन के लिए आएंगे। हालांकि शुरुआती दो दिनों में तीर्थ पर भक्तों की संख्या कम है। तीर्थ पुरोहितों के अनुसार अश्विन अधिक शुक्ल पक्ष में आस्थावानों की संख्या बढ़ेगी।पुराण प्रसिद्घ अवंतिका को पुरुषोत्तम धाम की मान्यता है। अधिकमास में अवंतिका तीर्थ में आराधना व दान पुण्य करने से महाफल की प्राप्ति होती है। इसी मान्यता के चलते प्रत्येक तीन वर्ष में आने वाले अधिकमास के समय देशभर से श्रद्घालु यहां तीर्थाटन के लिए आते हैं। उज्जयिनी में अधिकमास के दौरान नौ नारायण, चौरासी महादेव व श्रीकृष्ण मंदिरों में दर्शन तथा सप्त सागरों के पूजन का विधान है। प्रत्येक सागर में दान की अलग-अलग महिमा है। मान्यता है कि इसी के अनुसार भक्तों को पुण्य फल प्राप्त होता है।

सम्बंधित ख़बरें