देश में फिर से फलेगा-फूलेगा खिलौना उद्योग 

देश में फिर से फलेगा-फूलेगा खिलौना उद्योग 

नई दिल्‍ली (महामीडिया) ‘एक भारत, श्रेष्‍ठ भारत’ के तहत खिलौनों के जरिए भारतीय संस्‍कृति और संस्‍कारों को बढावा देने के आह्वान के बाद देश में खिलौना उद्योग के फिर से फलने-फूलने के दिन आते दिख रहे हैं। इस कड़ी में सरदार वल्‍लभ भाई पटेल, छत्रपति शिवाजी, रानी लक्ष्‍मीबाई, परमवीर चक्र विजेता योद्धाओं आदि के अलावा भारतीय संस्‍कृति से जुड़े मूल्‍यों, योग आदि पर आधारित खिलौनों को प्रोत्‍साहित करने के लिए केंद्रीय उद्योग व व्‍यापार संवर्धन विभाग नौ विभिन्‍न मंत्रालयों के साथ मिलकर काम कर रहा है। 
अक्टूबर महीने से देश के विभिन्न राज्यों में शुरू हो रहे हुनर हाट मेले में लोगों को स्वदेशी खिलौने लुभाएंगे। इसके माध्यम से दस्तकारों एवं खिलौना कारीगरों को भी बड़े बाजार तक पहुंचने का मौका मिलेगा। मेले में 30 प्रतिशत से अधिक स्टॉल स्वदेशी खिलौनों के कारीगरों के लिए आरक्षित होंगे। भारत के घरेलू खिलौना उद्योग का समृद्धशाली इतिहास रहा है। उत्तर प्रदेश, बंगाल, राजस्थान, गुजरात, पंजाब, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश आदि राज्यों में सदियों से दस्तकार, शिल्पी अपने हाथों से आकर्षक खिलौने बनाते आ रहे हैं। 
 

सम्बंधित ख़बरें