महामीडिया न्यूज सर्विस
नवरात्र के पांचवे दिन होती है स्कंदमाता की पूजा

नवरात्र के पांचवे दिन होती है स्कंदमाता की पूजा

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 194 दिन 3 घंटे पूर्व
10/04/2019
भोपाल (महामीडिया) आज चैत्र नवरात्र का पांचवा दिन है। आज नवरात्र के पांचवे दिन मां दुर्गा के रुप स्कंदमाता की पूजा की जाती है। स्कंदमाता को कार्तिकेय की माता माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि संतान की प्राप्ति और मोक्ष की प्राप्ति के लिए स्कंदमाता की आराधना करनी चाहिए। स्कंद का अर्थ है कुमार कार्तिकेय अर्थात माता पार्वती और भगवान शिव के जेष्ठ पुत्र कार्तिकय। जो भगवान स्कंद कुमार की माता है वही है मां स्कंदमाता। शास्त्रों के अनुसार भगवान स्कंद के बालरूप को माता अपनी दाई तरफ की ऊपर वाली भुजा से गोद में बैठाए हुए है। स्कंदमाता स्वरुपिणी देवी की चार भुजाएं हैं। ये दाहिनी तरफ की ऊपर वाली भुजा से भगवान स्कंद को गोद में पकड़े हुए हैं। बाईं तरफ की ऊपर वाली भुजा वरमुद्रा में और नीचे वाली भुजा जो ऊपर की ओर उठी है, उसमें कमल-पुष्प लिए हुए हैं। देवी स्कन्द माता पर्वत राज हिमालय की पुत्री पार्वती हैं इन्हें ही माहेश्वरी और गौरी के नाम से जाना जाता है। 
देवी मंत्र
या देवी सर्वभू‍तेषु मां स्कंदमाता रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
मां की पूजा के बाद शिव शंकर और ब्रह्मा जी की पूजा करनी चाहिए। स्कन्द माता की भक्ति-भाव सहित पूजा करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है और घर में सुख, शांति एवं समृद्धि रहती है। वात, पित्त, कफ जैसी बीमारियों से पीड़ित व्यक्ति को स्कंदमाता की पूजा करनी चाहिए।

और ख़बरें >

समाचार