महामीडिया न्यूज सर्विस
हार से डरीं ममता दीदी, आयोग क्यों नहीं कर रहा कार्रवाई- शाह

हार से डरीं ममता दीदी, आयोग क्यों नहीं कर रहा कार्रवाई- शाह

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 95 दिन 5 घंटे पूर्व
15/05/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) कोलकाता में मंगलवार को अपने रोड शो के दौरान हुई हिंसा के बाद अमित शाह ने ममता बनर्जी पर निशाना साधा है। शाह ने कहा कि राज्य में ममता दीदी चुनावी रुझानों से डरी हुई हैं और अपनी हार से घबराकर वो हिंसा करवा रही हैं।
शाह ने बुधवार को भाजपा मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए मीडिया से कहा कि वहां हिंसा की खबरें सुबह से आ रही थीं लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब तक चुनाव के 6 चरण समाप्त हो चुके हैं, इन 6 के 6 चरणों में सिवाय बंगाल के कहीं भी हिंसा नहीं हुई। मैं ममता जी को बताना चाहता हूं कि आप सिर्फ 42 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं और भाजपा देश के सभी राज्यों में चुनाव लड़ रही है। मगर कहीं पर भी हिंसा नहीं हुई, लेकिन बंगाल में हर चरण में हिंसा हुई इसका साफ मतलब है कि हिंसा TMC कर रही है। शाह ने आरोप लगाया कि रोड शो से पहले ही वहां लगे पोस्टर फाड़ दिए गए। रोड शो शुरू हुआ, जिसमें अभूतपूर्व जनसैलाब उमड़ा, 2.30 घंटे तक शांतिपूर्ण तरीके से रोड शो चला। 3 बार हमले किये गए और तीसरे हमले में तोड़फोड़, आगजनी और बोतल में केरोसिन डालकर हमला किया गया। सुबह से पूरे कोलकाता में चर्चा थी कि यूनिवर्सिटी के अंदर से आकर कुछ लोग दंगा करेंगे। पुलिस ने कोई जांच नहीं की और न ही किसी को गिरफ्तार करने की कोशिश की गई। 
ईश्वरचंद विद्यासागर की प्रतिमा को पहुंचाई गई क्षति पर शाह ने दावा किया कि, जहां ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतीमा रखी है वो जगह कमरों के अंदर है। कॉलेज बंद हो चुका था, सब लॉक हो चुका था, फिर किसने कमरे खोले। ताला भी नहीं टूटा है, फिर चाबी किसके पास थी। कॉलेज में टीएमसी का कब्जा है। वोटबैंक की राजनीति के लिए महान शिक्षाशास्त्री की प्रतिमा का तोड़ने का मतलब है कि टीएमसी की उल्टी गिनती शुरू हो गई। शाह ने कहा कि पूरी तरह से आश्वस्त हूं कि पांचवें और छठे चरण के बाद भाजपा अकेले पूर्ण बहुमत का आंकड़ा पार कर चुकी है। सातवें चरण के बाद 300 सीटों से ज्यादा जीतकर हम नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनाने जा रहे हैं। मैंने बंगाल की जनता के आक्रोश को देखा है, जैसी स्थिति वहां ममता दीदी ने बनाई है उसे जनता स्वीकार नहीं कर सकती।
और ख़बरें >

समाचार