महामीडिया न्यूज सर्विस
पति के मृत्यु के बाद दो मासूम बच्चियों के साथ बेसहारा हुई पत्नी

पति के मृत्यु के बाद दो मासूम बच्चियों के साथ बेसहारा हुई पत्नी

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 35 दिन 6 घंटे पूर्व
16/05/2019

छतरपुर (महामीडिया) मानवीय संवेदनाए किस हद तक मर जाती है इसका एक  उदाहरण छतरपुर जिले के हरपालपुर में देखने को मिला जब दो  मासूम बच्चों के पिता की मुत्यु के बाद उसके परिवार ने लेने से मना कर दिया। किसी तरह उसकी पत्नी ने लोगों के सहयोग से उसका अंतिम संस्कार कराया। हद तो और हो गई जब संस्कार के बाद उसके पास खाने तक  के लाले पड़ गये कोई  मदद को नहीं आया एक साल और एक चार साल के दो बच्चियों के साथ बेसहारा महिला आज छतरपुर पुलिस मुख्यालय न्याय के लिए अपने पति की अस्थियों के  साथ पहुंची।

हरपालपुर  में रहने  वाला रविन्द्र सोनी का  सिर्फ इतना कसूर था कि उसने घर वालों कि मर्जी के खिलाफ प्रेम विवाह कर लिया था विवाह के बाद उसने हरपालपुर में परिवार से अलग रहते हुए चाट ठेले का व्यवसाय शुरू किया। इस दौरान वह दो बच्चों का बाप भी बना तभी किस्मत का फेर  था कि उसे केंसर हो गया। इलाज में  काफी पैसा खर्च हुआ धंधा चोपट हो  गया और रविन्द्र कर्ज में भी डूब गया। इलाज के चलते कुछ दिन पूर्व उसकी  अस्पताल में मृत्यु हो गई।

रविन्द्र का शव जब उसके  परिवार के यहां पहुंचा  तो उसके पिता ने उसे लेने से मना कर दिया। आस-पास के समझाने के बाद भी उसका  पिता और उसके अन्य घर वाले अन्तेष्टि के लिए तैयार नहीं हुए। कुछ समाज सेवियों  ने चंदा कर जैसे-तैसे अन्तेष्टि करायी। अग्नि उस मासूम बच्ची ने ही दीये जिसे  कुछ माजरा ही समझ में  नहीं आ रहा था। रविन्द्र के परिवार ने उसकी 35 वर्षीय पत्नि और दोनों मासूम लड़कियों को भी अपनाने से मना कर दिया। कर्ज के बोझ तले और खाने पीने की मुसिबत लिये महिला को आस-पड़ोस के कुछ लोग  मदद तो कर रहे है लेकिन ऐसा कब तक चलता रहेगा । पत्नि के पास इतने  पैसे  नहीं है कि वह अपने पति  की अस्थ्यिां विसर्जित  कर सकें। परेशान पत्नि आज छतरपुर पुलिस मुख्यालय पहुंचकर एसपी से  गुहार लगाई कि उसे रविन्द्र के पिता द्वारा न्याय दिलाया  जाए। उसको और असके बच्चों को प्रापर्टी का हिस्सा दिलवाया जाए ताकि वह अपने बच्चों का भरनपोषण कर सकें। एसपी ने  अपने अधीन अधिकारी को कार्यवाही के लिए कहां हैं। अब देखना है  कि पुलिस या सामाजिक लोग उसकी क्या मदद कर पाते हैं। पत्नि अपने पति की अस्थियां अभी भी अपने पास ही रखी हुई हैं। 

और ख़बरें >

समाचार