महामीडिया न्यूज सर्विस
एटीएस करेगी आर्मी जवान को भोपाल कोर्ट में पेश

एटीएस करेगी आर्मी जवान को भोपाल कोर्ट में पेश

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 94 दिन 19 घंटे पूर्व
17/05/2019
इंदौर (महामीडिया) आतंक विरोध दस्ते(एटीएस) ने महू में पदस्थ एक आर्मी जवान को गिरफ्तार किया है। वह आर्मी के गोपनीय रिकॉर्ड और जानकारियां पाकिस्तान को बेच रहा था। जवान करीब डेढ़ वर्ष पूर्व हनी ट्रैप में फंसा था। एटीएस उसे भोपाल कोर्ट में पेश करेगी।
आईबी उसकी छह महीने से निगरानी कर रही थी। एटीएस ने मोबाइल जब्त कर व्हॉट्सएप और फेसबुक अकाउंट की जांच शुरू कर दी है। गिरफ्तार जवान का नाम अविनाश कुमार (25) है। मूलत: बिहार का रहने वाला अविनाश फिलहाल महू में बिहार रेजिमेंट में सहायक क्लर्क के पद पर पदस्थ था। उसके पिता भी रिटायर्ड आर्मी अफसर हैं। अविनाश पहले असम में पदस्थ था। पिछले साल ही महू आया था। इस दौरान पाकिस्तानी युवती ने हनी ट्रैप में फंसा लिया। वह उससे सेक्सी चैट करने लगा और युवती ने ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। अविनाश कुमार ने ऐसी गोपनीय जानकारियां भेज दीं जिनसे युद्ध के दौरान विरोधी को फायदा पहुंच सकता है। एटीएस चीफ संजीव शमी के मुताबिक इसके बदले उसे रुपए भी मिल रहे थे। उसके विरुद्ध गोपनीय जानकारी लीक करने का प्रकरण दर्ज किया गया है।
सू्त्रों के मुताबिक, हनी ट्रैप में फंसाने की शुरुआत स्पूफ कॉलिंग से शुरू हुई थी। इंडियन आईडी से कॉल कर कथित युवती ने दोस्ती कर ली। वह जवान से चैटिंग करने लगी। जवान वॉट्सएप और फेसबुक पर बात करता था। इस दौरान उसने अश्लील फोटो-वीडियो शेयर कर लिए। कुछ दिनों बाद ब्लैकमेल कर गोपनीय जानकारियां मांगनी शुरू कर दीं। जैसे ही जवान जाल में फंसा, उससे सौदेबाजी शुरू हो गई। भारतीय एजेंट के जरिए उसके खाते में रुपए जमा करवाए और सेना व युद्ध से जुड़ी जानकारियां मांग लीं। पुलिस एजेंट की तलाश कर रही है।
जानकारी के मुताबिक गिरफ्तार आरोपित आर्मी की महत्वपूर्ण शाखा में कार्यरत था। यहां हथियार और प्रशिक्षण संबंधित गोपनीय जानकारियां थीं। उसकी गिरफ्तारी की खबर मिलते ही आईबी और एनआईए भी पूछताछ करने पहुंच गई हैं। सूत्रों के मुताबिक जवान की गिरफ्तारी की जानकारी आर्मी अफसरों को नहीं बताई गई थी। बुधवार दोपहर उसे ऑफिस से निकलते ही छावनी क्षेत्र से दबोच लिया। इसके बाद आर्मी अफसर और आर्मी इंटेलिजेंस सकते में आ गए।
और ख़बरें >

समाचार