महामीडिया न्यूज सर्विस
न राम मिला न रोजगार मिला, हर गली में बेरोजगार मिला: सिद्धू

न राम मिला न रोजगार मिला, हर गली में बेरोजगार मिला: सिद्धू

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 31 दिन 3 घंटे पूर्व
19/05/2019
अमृतसर (महामीडिया) जब से भारतीय जनता पार्टी का दामन छोड़ नवजोत सिंह सिद्धू कांग्रेस में शामिल हुए हैं, बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी पर वह खासे हमलावर रहते हैं. सिद्धू का यह हाल अपनी पार्टी में भी है. पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को छोड़ दें तो सिद्धू का अनबन पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से जगजाहिर है. ऐसे में अमृतसर लोकसभा सीट के लिए वोट डालने पहुंचे कांग्रेस मंत्री और अमृतसर से विधायक नवजोत सिंह सिद्धू ने पीएम मोदी और बीजेपी पर जमकर हमला बोला. उन्होंने अमरिंदर सिंह पर भी अप्रत्यक्ष तौर पर निशाना साधा.
प्रधानमंत्री मोदी के केदारनाथ के दौरे पर तंज कसते हुए सिद्धू ने कहा कि अगर समाधि लगानी थी तो मीडिया को साथ में ले जाने की क्या जरूरत थी. बिना मीडिया के भी साधना की जाती है. सिद्धू ने कहा कि जो मुखोटे हैं, प्रधानमंत्री के चेहरे से ऊपर निकल गए हैं. असली सूरत पूरी दुनिया के सामने आ गई.
सिद्धू ने कहा, 'प्रधानमंत्री मोदी की असली सूरत पूरी दुनिया के सामने आ गई है. असली सूरत एक भगोड़े प्रधानमंत्री की जो रोजगार से भाग रहा है, एजुकेशन से भाग रहा है. जो हेल्थ की बात नहीं करता. दो करोड़ नौकरी की बात नहीं करता. बेरोजगारी की बात नहीं करता. जो फौज की शरण में जाकर के फौज के कंधों से सियासी तीर चलाता है. संस्थाओं को खत्म करता है. कुछ लोगों को फायदा देता है अंबानी और अडानी को. न मंदिर की बात और नाम मस्जिद की बात हो जनता बेरोजगार है उनके निवालों की बातचीत हो. न राम मिला- न रोजगार मिला. हर गली में मोबाइल चलाता बेरोजगार मिला.'
एक बार फिर प्रधानमंत्री मोदी और उनकी सरकार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर देश का विश्वास तोड़ने का आरोप लगाया. साथ ही सिद्धू ने मौजूदा सरकार की तुलना काले अंग्रेजों से की. सिद्धू ने कहा, 'विश्वास बिखर चुका है मोदी से. मेरे लिए सबसे गौरवपूर्ण बात यह थी कि हिंदुस्तान की सबसे पुरानी पार्टी जिसने देश को आजादी दी, गोरे अंग्रेजों से निजात दिलाई. आज वह काले अंग्रेजों से भी निजात दिलाएगी.' सिद्धू ने शायराना अंदाज में कहा, 'उसूलों पर आंच आए टकराना जरूरी है, जिंदा है तो जिंदा नजर आना जरूरी है.'
नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा, 'जनता की अदालत सबसे बड़ी अदालत है. उनको ठोंक दो, जो कांग्रेस की पीठ में छुरा घोंप रहे हैं. अगर वह कह रहे हैं कि मेरे बारे में कहा तो उनके मन में चोर है. मैंने तो किसी का नाम नहीं लिया. मैंने यह कहा जो 75- 25 खेल रहे हैं. जो कांग्रेस के साथ वादाखिलाफी कर रहे हैं, कांग्रेस के पीठ में छुरा भोंक रहा है. उसे छोड़ना मत. क्योंकि कांग्रेस का कार्यकर्ता ही पार्टी है. राहुल ने एक ही चीज सब को सिखाई है. कांग्रेस का कार्यकर्ता पार्टी के लिए अपनी जान देता है और मरता है. कांग्रेस पार्टी के लिए. तो कोई हक नहीं है कि वह समझौते करें. सिद्धू हमेशा कांग्रेस कार्यकर्ता के साथ हमेशा खड़ा रहेगा.' अमृतसर में चुनाव प्रचार ना करने पर नवजोत सिंह सिद्धू का कहना है कि मेरी अर्धांगिनी है. मेरे क्षेत्र को पहले ही संभालती थी कि मुझे आने की क्या जरूरत है. मेरा काम बोलता है. ईमानदारी बोलती है. लोग घरवाली पर विश्वास करते हैं. मैंने 6-6 इलेक्शन कैसे जीते हैं कि लोग मुझ पर विश्वास करते हैं. पहले मेरा बल्ला बोलता था मेरा काम बोलता है इसलिए मुझे यहां आकर कैंपेन करने की जरूरत नहीं थी.
और ख़बरें >

समाचार