महामीडिया न्यूज सर्विस
तमिलनाडु में तीन भाषा फॉर्मूले का कड़ा विरोध

तमिलनाडु में तीन भाषा फॉर्मूले का कड़ा विरोध

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 17 दिन 7 घंटे पूर्व
02/06/2019
चेन्नई (महामीडिया) तमिलनाडु में द्रमुक सहित विभिन्न राजनीतिक दलों ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति में प्रस्तावित तीन भाषा फॉर्मूले का कड़ा विरोध शुरू हो गया है। उन्होंने इसे ठंडे बस्ते में डालने की मांग करते हुए दावा किया कि यह हिन्दी को ?थोपने? के समान है। तमिलनाडु सरकार कहा कि वह दो भाषा फॉर्मूले को जारी रखेगी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने तमिल में किए विभिन्न ट्वीट में कहा, ??स्कूलों में तीन भाषा फॉर्मूले का क्या मतलब है? इसका मतलब है कि वे हिंदी को एक अनिवार्य विषय बनाएंगे....।?? उन्होंने ट्वीट किया, ??भाजपा सरकार का असली चेहरा उभरना शुरू हो गया है।?? द्रमुक प्रमुख एम के स्टालिन ने कहा कि तीन भाषा फॉर्मूला ??प्राथमिक कक्षा से कक्षा 12 तक हिंदी पर जोर देता है। यह बड़ी हैरान करने वाली बात है?? और यह सिफारिश देश को ??बांट?? देगी। मसौदा नीति जानेमाने वैज्ञानिक के कस्तूरीरंगन के नेतृत्व वाली एक समिति ने तैयार की है जिसे शुक्रवार को सार्वजनिक किया गया। प्रकाश जावड़ेकर का कहना है कि किसी पर कोई भाषा थोपने का कोई इरादा नहीं है, हम सभी भारतीय भाषाओं को बढ़ावा देना चाहते हैं। यह समिति द्वारा तैयार किया गया एक मसौदा है, जिसे सार्वजनिक प्रतिक्रिया मिलने के बाद सरकार द्वारा तय किया जाएगा। 
और ख़बरें >

समाचार