महामीडिया न्यूज सर्विस
ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के बदले नियम...

ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के बदले नियम...

admin | पोस्ट किया गया 51 दिन 6 घंटे पूर्व
28/06/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) 1 जुलाई से बैंकों से जुड़े नियमों में 3 बदलाव होने जा रहे हैं। इन बदले नियमों से ग्राहकों को राहत मिलने वाली है। नियम में बदलाव से जहां एक तरफ एनईएफटी और आरटीजीएस चार्ज खत्म होने से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन को बढ़ावा मिलेगा तो दूसरी तरफ भारतीय स्टेट बैंक से होम लोन लेने वाले ग्राहकों को रीपो रेट कम होने का लाभ मिल सकता है। 
भारतीय रिजर्व बैंक ने आरटीजीएस और एनईएफटी के जरिए पैसा ट्रांसफर करने पर लगने वाले चार्ज को 1 जुलाई से खत्म करने की घोषणा की है। रीयल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट सिस्टम बड़ी राशियों को एक खाते से दूसरे खाते में तुरंत ट्रांसफर करने की सुविधा है। इसी तरह एनईएफटी के जरिये दो लाख रुपये तक तुरंत ट्रांसफर कर सकते हैं। 
भारतीय स्टेट बैंक 1 जुलाई से अपने होम लोन की ब्याज दरों को रीपो रेट से जोड़ देगा। यानी, अब SBI होम लोन की ब्याज दर पूरी तरह रीपो रेट पर आधारित हो जाएगी। बैंकों में बेसिक अकाउंट रखने वाले ग्राहकों को भी चेक बुक और अन्य सुविधाएं उपलब्ध हो सकती हैं। बैंक इन सुविधाओं के लिए खाताधारकों को कोई न्यूनतम राशि रखने के लिए नहीं कह सकते। प्राथमिक बचत बैंक जमा खाता से आशय ऐसे खातों से है, जिसे शून्य राशि से खोला जा सकता है। इसमें कोई न्यूनतम राशि रखने की जरूरत नहीं है। 
और ख़बरें >

समाचार