महामीडिया न्यूज सर्विस
कर्नाटक की आंच अब मप्र पहुंची

कर्नाटक की आंच अब मप्र पहुंची

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 138 दिन 15 घंटे पूर्व
24/07/2019
भोपाल (महामीडिया) कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार गिरने के बाद अब मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार पर भी सियासी बादल मंडराने लगे हैं। भारतीय जनता पार्टी ने दावा किया है कि आंतरिक कलह से कर्नाटक की तरह मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार भी जल्दी ही गिर जाएगी। हालांकि कांग्रेस का दावा है कि कमलनाथ की सरकार गिराने के लिए बीजेपी नेताओं को सात जन्म लेने पड़ेंगे। प्रदेश की कमलनाथ सरकार को लेकर अटकलों का बाजार गर्म हो गया है। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी के दूसरे नेताओं का कहना है कि एमपी में भी कांग्रेस आंतरिक विरोध से सत्ता गंवा सकती है।
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'हम मध्यप्रदेश की सरकार के पतन का कारण नहीं बनेंगे। कांग्रेस के नेता स्वयं अपनी सरकारों के पतन के लिए जिम्मेदार हैं। कांग्रेस में एक आंतरिक संघर्ष है, और बीएसपी-एसपी का समर्थन है, अगर ऐसा कुछ होता है तो हम कुछ नहीं कर सकते।' 
बता दें कि मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार एसपी और बीएसपी विधायकों समेत कुछ निर्दलीय विधायकों के समर्थन पर टिकी है। ऐसे में बीजेपी नेताओं के दावों को हवा भी मिल रही है लेकिन कांग्रेस नेता ऐसे किसी भी खतरे से इनकार कर रहे हैं। मध्य प्रदेश विधानसभा में कुल सीटें 230 हैं और बहुमत के लिए जरूरी है 116 सीट। इनमें से कांग्रेस के पास 114 सीटें हैं जबकि बीजेपी की 109 सीटें हैं। इनके अलावा बीएसपी और एसपी के एक-एक जबकि 4 निदर्लीय विधायक हैं।
कमलनाथ सरकार के पास बहुमत से दो सीट कम है और वो निर्दलीय और एसपी-बीएसपी विधायकों के सहारे सत्ता में टिकी हुई है। अगर बीजेपी कांग्रेस के विधायकों को या फिर निर्दलीय और एसपी-बीएसपी विधायकों को तोड़ने में सफल हुई तो फिर कमलनाथ सरकार भी संकट में आ सकती है।

और ख़बरें >

समाचार