महामीडिया न्यूज सर्विस
मॉनसून में खाएं ये चीजें

मॉनसून में खाएं ये चीजें

admin | पोस्ट किया गया 90 दिन 17 घंटे पूर्व
24/07/2019
भोपाल (महामीडिया) बरसात का मौसम आते ही मन करने लगता है कि खिड़की के पास या बालकनी में बैठकर गर्मागरम चाय पिएं और साथ में पकोड़े, कचौरियां और स्नैक्स खाएं। आखिर बारिश का मौसम होता ही ऐसा है। हेल्दी से हेल्दी लाइफस्टाइल फॉलो करने वाले लोग भी खुद को बारिश में तला-भुना खाने से रोक नहीं पाते। लेकिन ये सब चीजें खाना नुकसानदेह होता है। अगर आप चाहते हैं कि बारिश में किसी तरह का इंफेक्शन या बीमारी आपको न घेरे और आप हेल्दी रहें तो फिर हेल्दी फूड का ही सेवन करें।
1- भुट्टा यानी कॉर्न भला किसे पसंद नहीं होगा। जिस तरह बारिश के साथ चाय की चुस्कियों का संबंध होता है वैसे ही इस मौसम में भुट्टा खाने का अपना ही एक अलग मजा होता है। खास बात यह है कि यह न सिर्फ स्वादिष्ट होता है बल्कि हेल्दी भी होता है। 
2- बारिश के मौसम में काली मिर्च का सेवन हर तरह के इंफेक्शन और सर्दी-जुकाम से बचाता है। किसी भी सब्जी या फिर सलाद या ऑमलेट में ऊपर से जरा सा काली मिर्च पाउडर डाल देंगे तो न सिर्फ जायका बढ़ेगा बल्कि सेहत भी बनेगी। इसके अलावा छाछ और दही खूब खाएं। 
3- कड़वी चीजें जैसे कि नीम, हल्दी, मेथी और करेले का सेवन करें। इस मौसम में इन चीजों के सेवन से इंफेक्शन दूर रहता है। 
4- मॉनसून में कच्ची सब्जियों और उनका सलाद खाने से बचें। इसकी जगह उबले हुए सलाद का सेवन करना चाहिए क्योंकि कच्ची सब्जियों में बैक्टीरिया और वायरस सक्रिय होते हैं, जो बैक्टीरिया और वायरल इंफेक्शन का कारण बन सकते हैं। 
5- बरसात में गठिया से ग्रस्त लोगों को सुबह खाली पेट पर तुलसी और दालचीनी के साथ गर्म पानी पीना चाहिए। इससे इरिटेबल बाउल सिंड्रोम में सुधार होता है और जोड़ों का दर्द भी कम हो जाता है। 
बरसात में ये खाएं ये फल 
बरसात के मौसम में वैसे तो फल खाने का मन ही नहीं करता, लेकिन जब बात सेहत की हो तो फिर न चाहते हुए भी हेल्दी चीजों को रुख करना पड़ता है। वैसे मॉनसून में लीची, जामुन और अनार खाना फायदेमंद होता है। 
लीची: में कार्बोहाइड्रेट, विटमिन सी, विटमिन ए और विटमिन बी कॉम्प्लेक्स पाया जाता है। इसके अलावा इसमें पोटैशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और आयरन भी पाए जाते हैं, जो मॉनसून में होने वाली बीमारियों से बचाव करते हैं। 
जामुन: पेट से जुड़ी समस्याओं के लिए जामुन एक रामबाण उपाय है। यह पाचन क्रिया को बेहतर बनाकर कब्ज से जुड़ी समस्याओं में फायदा पहुंचाने का काम करता है। मॉनसून में ज्यादातर बीमारियां पेट की होती हैं, ऐसे में इसके सेवन से फायदा होगा। 
डायबीटीज में जामुन का कमाल
डायबीटीज के मरीजों के लिए जामुन के साथ-साथ उसकी गुठली एक बेहतरीन औषधि है। मरीज रोजाना जामुन खाने के अलावा उसकी गुठली के चूर्ण का सेवन भी कर सकते हैं। इसके लिए जामुन की गुठली को सुखाकर पीस लें और उस चूर्ण को रोजाना एक गिलास पानी के साथ लें।
खून साफ करता है जामुन: जामुन में भरपूर मात्रा में आयरन होता है जो खून को साफ करने और बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा यह डायरिया, अपचन जैसी पेट संबंधी समस्याओं से निजात दिलाने में भी मदद करता है।
जामुन को कैंसर के इलाज में भी कारगर माना गया है। साल 2005 में आयी एक स्टडी में दावा किया गया था कि जामुन में कैंसर प्रतिरोधी और कीमोप्रिवेंटिव तत्व होते हैं जो शरीर से फ्री रैडिकल्स को निकालने में मदद करते हैं। जामुन हमारे दिल का भी ख्याल रखता है और हार्ट संबंधी बीमारियों से बचाव करता है।
​ये लोग न खाएं जामुन
जिन लोगों को ब्लड क्लॉट, सांस संबंधी बीमारी या फिर हाइपोग्लाइसिमिया है वे जामुन न खाएं। चूंकि जामुन में क्लॉटिंग तत्व होते हैं इसलिए उन लोगों को जामुन का सेवन नहीं करना चाहिए जिनकी फैमिली हिस्ट्री भी अगर ब्लड क्लॉट की रही हो। डायबीटीज से पीड़ित लोग भी सीमित मात्रा में इसका सेवन करें। 
अनार: अनार में भरपूर मात्रा में फाइबर, विटमिन सी और विटमिन के पाया जाता है। इसमें मौजूद ऐंटी-ऑक्सिडेंट मॉनसून में होने वाली वाली त्वचा संबंधी बीमारियों से सुरक्षित रखने में मददगार हैं। 
बरसात में ऐसा हो ब्रेकफस्ट, लंच और डिनर 
बरसात के मौसम में ब्रेकफस्ट में ब्लैक टी के साथ पोहा, उपमा, इडली, सूखे टोस्ट भी खा सकते हैं। लंच में तले-भुने खाने की बजाय दाल व सब्जी के साथ सलाद और रोटी लें। डिनर में सब्जियां, रोटी और दही व सलाद लें। इस मौसम में गर्मागरम सूप काफी फायदेमंद रहता है। दूध में रोजाना रात को हल्दी मिलाकर पीने से पेट और त्वचा दोनों स्वस्थ्य रहेंगे। 
और ख़बरें >

समाचार

MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in