महामीडिया न्यूज सर्विस
ओला-उबर की तरह अब किसान भी मंगा सकेंगे ट्रैक्‍टर

ओला-उबर की तरह अब किसान भी मंगा सकेंगे ट्रैक्‍टर

admin | पोस्ट किया गया 89 दिन 3 घंटे 25 सेकंड पूर्व
12/09/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) मोदी सरकार के कृषि मंत्रालय ने हाल ही में एक ऐसा ऐप लॉन्‍च किया है जिससे किसान अब ओला-उबर की तरह खेती के लिए ट्रैक्टर समेत अन्‍य उपकरण मंगा सकते हैं। हालांकि इसके लिए किसान को किराया भी देना होगा। हाल ही में कृषि मंत्रालय की ओर से 'सीएचसी फार्म मशीनरी' ऐप लॉन्‍च किया गया है। इस ऐप पर किसानों को कस्टम हायरिंग सेंटर्स के जरिए खेती से जुड़ी मशीन मुहैया कराई जाएगी। इसके लिए 35 हजार कस्टम हायरिंग सेंटर्स देशभर में बनाए जा चुके हैं, जिनकी क्षमता 2.5 लाख कृषि उपकरण सालाना किराये पर देने की है।
कृषि मंत्रालय काऐप गूगल प्‍ले स्‍टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। यह ऐप अंग्रेजी, हिंदी, उर्दू, नेपाली, कन्‍नड, मराठी, बंगाली समेत 12 अलग-अलग लैंग्‍वेज में मौजूद है। इस ऐप को डाउनलोड करने के बाद आपको लैंग्‍वेज सेलेक्‍ट करना होगा। इसके अगले स्‍टेप में आपको दो कैटेगरी- सर्विस प्रोवाइडर और किसान/उपयोगकर्ता दिखेंगे। इसमें किसान/उपयोगकर्ता कैटेगरी को सेलेक्‍टर कर रजिस्‍ट्रेशन करना होगा। इसके लिए किसान को नाम, पता और मोबाइल नंबर समेत अन्‍य जरूरी जानकारियां देनी होगी। इसके बाद के स्‍टेप में डैशबोर्ड खुल जाएगा। इस डैशबोर्ड में 'कृषि यंत्र की बुकिंग' समेत 7 अलग-अलग कैटेगरी है। 'कृषि यंत्र की बुकिंग' की कैटेगरी को सेलेक्‍ट करने के बाद एक नया पेज ओपन होगा। इस पेज पर आपको कृषि यंत्र का चयन करना होगा। इन उपकरणों में से किसी को भी सेलेक्‍ट कर सकते हैं। 
बता दें कि यह सुविधा खेती के इलाके से 50 किलोमीटर के भीतर कस्टम हायरिंग सेंटर्स होने की स्थिति में ही मिलेगी।
और ख़बरें >

समाचार