महामीडिया न्यूज सर्विस
सऊदी अरब के तेल संयंत्रों पर हमले का असर भारत पर पड़ेगा

सऊदी अरब के तेल संयंत्रों पर हमले का असर भारत पर पड़ेगा

admin | पोस्ट किया गया 32 दिन 9 घंटे पूर्व
16/09/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको के दो बड़े ठिकानों पर शनिवार को हुए ड्रोन हमलों के बाद कच्चे तेल की कीमत बीते चार महीने में सबसे अधिक दर्ज की गई है। जो दैनिक वैश्विक तेल आपूर्ति का 5 प्रतिशत है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में व्यापार की शुरुआत में ब्रेंट क्रूड 19 प्रतिशत बढ़कर 71.95 डॉलर प्रति बैरल हो गया, जबकि अन्य प्रमुख बेंचमार्क, वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट 15 प्रतिशत बढ़कर 63.34 डॉलर हो गया। बता दें कि कच्चे तेल के दाम बढ़ने के बाद भारत में लगातार पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इजाफा देखने को मिल रहा है।
भारत के लिए सऊदी तेल संयत्रों पर हमला चिंता का कारण है। भारत पहले से ही सुस्त अर्थव्यवस्था के कारण चिंतित है और ऐसे में तेल संकट उसके लिए और फिक्र बढ़ा सकती है। सऊदी की अरमाको के साथ भारत की महत्वपूर्ण डील है और रिलायंस के भी बिजनस में 20% तक की हिस्सेदारी है। इसके साथ ही अरमाको महाराष्ट्र में एक बड़ी रिफाइनरी में भी पार्टनर है।
गौरतलब है कि सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको दुनिया की सबसे अहम तेल कंपनियों में से एक है और कच्चे तेल की सबसे बड़ी निर्यातक है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में आने वाला 10 फीसदी कच्चा तेल सऊदी अरब से आता है और उत्पादन कम हुआ तो बाजार में तेल की कीमतें और बढ़ सकती हैं। अरामको ने एक बयान में कहा कि हमले की वजह से रोजाना 57 लाख बैरल कच्चे तेल के उत्पादन पर असर पड़ेगा।
और ख़बरें >

समाचार