महामीडिया न्यूज सर्विस
मप्र: इनवस्टर्स समिट में इस बार ग्वालियर-चंबल संभाग चमक बिखेर सकते हैं

मप्र: इनवस्टर्स समिट में इस बार ग्वालियर-चंबल संभाग चमक बिखेर सकते हैं

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 28 दिन 2 घंटे पूर्व
24/09/2019
इंदौर (महामीडिया) इंदौर में होने वाली इस इनवस्टर्स समिट को कमलनाथ सरकार ने मैग्निफिसेंट मध्यप्रदेश समिट-2019 नाम दिया है, जिसमें ग्वालियर-चंबल संभाग के औद्योगिक क्षेत्र खास चमक बिखेर सकते हैं। ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में उद्योग लगाने के लिए इस बार यूं तो करोड़ों के एमओयू साइन होना निश्चित है, लेकिन कुछ करार ऐसे भी होने की उम्मीद है जो चौंकाने वाले होंगे।
दरअसल शिवपुरी स्थित पडोरा औद्योगिक क्षेत्र में रिलायंस डिफेंस कंपनी ने ऑर्डिनेंस फैक्ट्री लगाने की मंशा जाहिर की है। इसके लिए कंपनी ने मप्र इंडस्ट्रीयल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड ग्वालियर से बीते दिनों संपर्क साधा था। 18 सितबंर को कंपनी के दो प्रतिनिधियों ने फैक्ट्री लगाने के लिए पडोरा में 700 एकड़ जमीन देखी। उम्मीद है कि मैग्निफिसेंट मैग्निफिसेंट मध्यप्रदेश समिट में करोड़ों का यह एमओयू साइन होगा। अगर ऐसा होता है तो यह प्रोजेक्ट अंचल का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट होगा।
मुरैना जिले के सीतापुर औद्योगिक क्षेत्र में पारले एग्रो कंपनी द्वारा शीतल पेय की फैक्ट्री खुलना तय हो गया है। 33 एकड़ जमीन पर लगने वाले इस प्लांट के लिए कंपनी ने 50 लाख रुपए भी जमा कर दिए हैं। यहां जूते की सामग्री बनाने वाली कंपनी मयूर यूनिकोटर्स भी प्लांट शुरू करेगी। वहीं मुरैना के पिपरसेवा में ही बानमोर स्थित करीब 40 साल पुरानी रेलवे स्लीपर फैक्टरी शिफ्ट होने जा रही है। फैक्टरी का आकार अब बढ़ जाएगा और वह 6 एकड़ में फैलेगी। 70 फीसदी उत्पादन व कामगारों को बढ़ाने की बात स्पीपर फैक्ट्री संचालकों द्वारा कही गई है।
एमपीआईडीसी पदाधिकारियों का कहना है कि अंचल में जमीन, बिजली, पानी व सड़कों जैसी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध हैं। अंचल उत्तरप्रदेश व राजस्थान से सटा हुआ है जो कई मायनों में फायदेमंद होता है। आगरा टू मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग यहां से गुजरता है। दिल्ली से दक्षिण भारत की ओर जाने वाली लगभग सभी ट्रेन ग्वालियर में रुकती हैं, जिसके कारण ट्रांसपोटेशन की बेहतर सुविधा है। कामगारों की भी कमी नहीं है। अब जम्मू, कोलकाता, हैदराबाद, बैंगलुरू, मुंबई, दिल्ली जैसे बड़े शहर की सीधी फ्लाइट उपलब्ध हैं। जिसके कारण कनेक्टिविटी बेहतर हो गई है।
गौरतलब है कि वर्तमान में एमपीआईडीसी ग्वालियर के अंतर्गत 12 औद्योगिक क्षेत्र हैं। मालनपुर औद्यौगिक क्षेत्र जिला भिंड। मुरैना जिला स्थित बानमोर, जडेरुआ, सीतापुर, पिपरसेवा औद्योगिक क्षेत्र। शिवपुरी जिले में बरोडी व पडोरा उद्योगिक क्षेत्र। निवाड़ी जिला स्थित प्रतापुरा औद्योगिक क्षेत्र व ग्वालियर जिले के स्टोन पार्क पुरानी छावनी, रेडीमेड गार्मेंट पार्क, प्लास्टिक पार्क में उद्योगपति नए उद्योग लगा सकते हैं।

और ख़बरें >

समाचार