महामीडिया न्यूज सर्विस
रतलाम के प्राचीन श्री कालिका माता मंदिर में सुबह और रात में होता है गरबारास

रतलाम के प्राचीन श्री कालिका माता मंदिर में सुबह और रात में होता है गरबारास

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 64 दिन 20 घंटे पूर्व
02/10/2019
रतलाम (महामीडिया) रतलाम शहर का प्राचीन और ऐतिहासिक श्री कालिका माता मंदिर इन दिनों आकर्षण का केंद्र है। यहां प्रतिदिन दर्शनाें और पूजा अर्चना के लिए तो श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ रहा है। नवरात्रि के दिनों में यहां सुबह और शाम दोनों समय गरबारास हो रहा है। इंद्रदेवता की मेहरबानी के बीच बरसते पानी में भी बालिकाओं के उत्‍साह में कमी नहीं आई और उन्‍होंने अलसुबह पूरे उत्‍साह और श्रद्धा के साथ गरबे किए।
कालिका माता मंदिर जन-जन की आस्था और श्रद्घा का केंद्र है। यहां वर्षों से सुबह और रात में गरबारास का आयोजन हो रहा है। इसमें बड़ी संख्या में बालिकाएं, युवतियां और महिलाएं गरबारास कर मां नवदुर्गा की आराधना कर रही हैं। यहां सुबह 6 बजे से और रात में आठ बजे से गरबे होते हैं। मंदिर के पट सुबह चार बजे से खुल जाते हैं। प्रात: कालीन गरबारास में सजे-धजे परिधानों में युवतियां गरबारास कर मां कालिका की आराधना कर रही हैं रंगोली और रंगबिरंगी विद्युत सज्जा के बीच महिलाओं द्वारा सिर पर ज्योति कलश धारण कर गरबारास किया जा रहा है।
यहां इस वर्ष भी शारदीय नवरात्र महोत्सव मनाया जा रहा है। प्रतिदिन गरबारास, अखंड रामायण परायण, निराश्रित भोजन, महाआरती की जा रही है। मां के दर्शन करने के लिए तड़के 4 बजे से लंबी-लंबी कतार लग रही हैं। महोत्सव के तहत प्रतिदिन मंदिर परिसर में शाम 7 से रात 11 बजे तक सैकड़ों निराश्रितों को भोजन कराया जा रहा है।
और ख़बरें >

समाचार