महामीडिया न्यूज सर्विस
महाराष्ट्र बोर्ड की पुस्तकों से छत्रपति शिवाजी का इतिहास हटाए जाने से विवाद

महाराष्ट्र बोर्ड की पुस्तकों से छत्रपति शिवाजी का इतिहास हटाए जाने से विवाद

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 34 दिन 15 घंटे पूर्व
18/10/2019
पुणे (महामीडिया) विधान सभा चुनाव से कुछ दिन पहले महाराष्ट्र अंतरराष्ट्रीय शिक्षा बोर्ड की चौथी कक्षा की पुस्तकों से छत्रपति शिवाजी महाराज का इतिहास हटाए जाने से विवाद पैदा हो गया है। इस कदम को लेकर शिक्षा विभाग की आलोचना हो रही है। वहीं महाराष्ट्र राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद ने इस विवाद के लिये 'गलतफहमी' को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि पाठ्यक्रम से शिवाजी महाराज को हटाने का कोई प्रयत्न नहीं किया गया है। 
विपक्षी कांग्रेस और राकांपा के आक्रामक तेवर देख राज्य के मंत्री विनोद तावड़े ने कहा कि 17 वीं शताब्दी के मराठा योद्धा राजा का अध्याय चौथी कक्षा की इतिहास की पाठ्य पुस्तक में शामिल जाएगा। कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया, महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख बालासाहेब थोराट और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने इसकी आलोचना की है। 
जानकारी के अनुसार शिवाजी के जीवन और उनके जीवन से जुड़ी घटनाओं को एमआईईबी की कक्षा चार की पुस्तकों से निकाल दिया गया है। एमएससीईआरटी के उप निदेशक विकास गारद ने कहा, "इस विषय पर कुछ गलतफहमी रही और अधूरी जानकारी दी गयी । राज्य बोर्ड के पाठ्यक्रम से छत्रपति शिवाजी को हटाने का कोई प्रयास नहीं किया गया है।" उन्होंने कहा, "इतिहास विषय कक्षा पांच से शुरू किया जाएगा, जिसमें प्राचीन और मध्यकालीन इतिहास पर जोर दिया जाएगा।" 
और ख़बरें >

समाचार