महामीडिया न्यूज सर्विस
दुनिया को 'आनंद' के चश्मे से देखिए: ब्रह्मचारी गिरीश

दुनिया को 'आनंद' के चश्मे से देखिए: ब्रह्मचारी गिरीश

admin | पोस्ट किया गया 27 दिन 21 घंटे पूर्व
20/10/2019
भोपाल (महामीडिया) महर्षि राष्ट्रीय सांस्कृतिक महोत्सव का रंगारंग शुभारंभ आज यहां एक भव्य समारोह में ब्रह्मचारी गिरीश जी ने किया। इस तीन दिवसीय कार्यक्रम में विभिन्न राज्यों से आये लगभग 435 प्रतिभागी विभिन्न सांस्कृतिक विधाओं में अपने कौशल का प्रदर्शन करेंगे। 
आज प्रातः सांस्कृतिक महोत्सव को संबोधित करते हुए महर्षि विद्या मंदिर समूह के अध्यक्ष ब्रह्मचारी गिरीश जी ने कहा कि "यहां पर हर विद्यार्थी जीतने के लिये आया है, लेकिन वह हार-जीत की परवाह किये बिना सांस्कृतिक महोत्सव में भाग लें एवं "आनंद ही जीवन है" को फलीभूत करें और साथ ही सकारात्मक ऊर्जा, सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ अपना-अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें। उन्होंने आनंदमयी जीवन को उल्लेखित करते हुए कहा कि जिस प्रकार लाल-हरा चश्मा लगाने से वैसा ही रंग दिखेगा ऐसे में हम अगर 'आनंद' रूपी चश्मा अपनाएं तो हमें सामने आनंदमयी दुनिया दिखेगी। उन्होंने कहा कि जो भी 'आत्म चेतना' में स्थित होकर अपना प्रदर्शन करेगा वही जीतेगा। प्रतियोगिता में ईर्ष्या न करें बल्कि अपनी कमियों को जानें और स्वयं को इन कमियों से दूर करें, यही वास्तविक जीत है। इस अवसर पर ब्रह्मचारी गिरीश जी ने महोत्सव में शामिल सभी प्रतिभागियों और उनके साथ आये विभिन्न शिक्षकों को तथा उपस्थित लोगों  को कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बधाई दी। सुखी जीवन एवं आनंदमयी जीवन के लिए भावातीत ध्यान करने की उपयोगिता बताई। 
महोत्सव को संबोधित करते हुए महर्षि महेश योगी वैदिक विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर भुवनेश शर्मा ने कहा कि "विभिन्न राज्यों की विविध संस्कृतियां राष्ट्रीय सांस्कृतिक महोत्सव में अपना परचम लहरायेंगी। 'भावातीत ध्यान' एवं 'सिद्धि' की उपादेयता महर्षि राष्ट्रीय सांस्कृतिक महोत्सव में परिलक्षित होंगी। यही महर्षि विद्या मंदिर स्कूलों की विशेषता है जिसके कारण आज कारपोरेट वर्ल्ड भी महर्षि संस्थान में पढ़ने वाले बच्चों को प्राथमिकता दे रहे हैं। 
पूरे देश से 53 महर्षि विद्या मंदिर विद्यालयों के 435 प्रतिभागियों एवं 90 शिक्षकों की उपस्थिति में राष्ट्रीय सांस्कृतिक महोत्सव का रंगारंग शुभारंभ महर्षि संस्थान की परंपरा अनुसार गुरु वंदना से प्रारंभ हुआ। इसके पश्चात् समस्त अतिथियों ने मिलकर दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। महर्षि विद्या मंदिर, रतनपुर की छात्राओं द्वारा स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया। आज समूह नृत्य, चित्रकला प्रतियोगिता, वाद-विवाद तथा क्विज प्रतियोगिता का प्रारंभिक चक्र कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण रहे। यह तीन दिवसीय कार्यक्रम है जो 22 अक्टूबर तक चलेगा। इस अवसर पर महार्षि शिक्षा संस्थान के अधिकारीगण के रूप में प्रकाश जोशी, व्ही.आर. खरे, एम.एस. सोलंकी, सी.डी. शर्मा, एम.जे. बागची और महर्षि स्कूल के प्राचार्य बी.एस. गुलेरिया आदि उपस्थित थे।
और ख़बरें >

समाचार