महामीडिया न्यूज सर्विस
भारतीय सेना में S-400 शामिल होने से पहले चीन और पाकिस्‍तान की बेचैनी बढ़ी

भारतीय सेना में S-400 शामिल होने से पहले चीन और पाकिस्‍तान की बेचैनी बढ़ी

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 4 दिन 23 घंटे पूर्व
07/11/2019
नई दिल्‍ली (महामीडिया) आज मॉस्‍को में होने वाली 19वें भारत-रूस इंटरगर्वमेंटल कमिशन ऑन मिलिट्री एंड मिलिट्री टेनिकल कॉपोरेशन की बैठक होनी है। इस बैठक में रूस की एस-400 मिसाइल भारतीय सेना में शामिल होने पर भी चर्चा होगी। यह रूसी मिसाइल अक्‍टूबर 2020 में शामिल होगी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह इस समय मॉस्‍को में हैं। वह इस बैठक में हिस्‍सा लेंगे। 
अभी एस-400 S-400 भारतीय सेना में शामिल नहीं हुआ है, लेकिन चीन और पाकिस्‍तान की बेचैनी बढ़ गई है। एस-400 रूसी सेना का रक्षा कवच के रूप में जाना जाता है। यह एक बार में दुश्‍मन पर एक साथ 36 प्रहार कर सकता है। इसके मिसाइल सिस्‍टम में 12 लांचर हैं। यह दुश्‍मनों की मिसाइलों पर रक्षा कवच है। यह चीन और पाकिस्‍तान की 36 न्‍यूक मिसाइलों एक साथ संभाल सकता है। यह चार सौ किलोमीटर की दूरी से आ रही मिसाइल को निशाने पर जाने से पहले ध्‍वस्‍त कर सकती है।
और ख़बरें >

समाचार