महामीडिया न्यूज सर्विस
राम मंदिर के सहारे अपनी खोई जमीन वापस पाने की उम्मीद में कांग्रेस

राम मंदिर के सहारे अपनी खोई जमीन वापस पाने की उम्मीद में कांग्रेस

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 26 दिन 3 घंटे पूर्व
10/11/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से भले ही एक बहुत पुराने विवाद का अंत हो गया हो, लेकिन कांग्रेस इसके जरिए अपने बारे में बनी अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की धारणा को तोड़कर बहुसंख्यक समाज में लोकप्रियता का ग्राफ एक बार फिर से बढ़ाने के अवसर पर के तौर पर देख रही है। शायद यही वजह है कि निर्णय आने के तत्काल बाद उसने विवादित स्थान पर मंदिर निर्माण का खुलकर समर्थन किया। मुख्य विपक्षी पार्टी को लगता है कि कोर्ट के फैसले के बाद अब उस मुद्दे का पूरी तरह पटाक्षेप हो जाएगा जो दशकों से बीजेपी के लिए फायदे का मुद्दा रहा है।
फैसला आने के बाद पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने खुलकर कहा कि कांग्रेस अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की पक्षधर है। वर्ष 1992 में बाबरी विध्वंस के बाद हिंदी भाषी राज्यों में कांग्रेस का ग्राफ तेजी से नीचे गिरा क्योंकि उस वक्त यह धारणा बनी कि केंद्र की सत्ता में रहते हुए वह इस घटना को रोकने में नाकाम रही। कांग्रेस का दावा है कि 26 साल पहले उसने अयोध्या मामले में मध्यस्थता की पहल की थी और सबकी सहमति या अदालती निर्णय से राम मंदिर का निर्माण चाहती थी। उसका आरोप है कि बीजेपी ने ऐसा होने नहीं दिया।
और ख़बरें >

समाचार