महामीडिया न्यूज सर्विस
भगवान महाकाल ने प्रजा को दिया अमन का आशीष

भगवान महाकाल ने प्रजा को दिया अमन का आशीष

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 25 दिन 11 घंटे पूर्व
11/11/2019
उज्जैन[ महामीडिया ] वैकुंठ चर्तुदशी पर रविवार रात गोपाल मंदिर में हरि हर मिलन हुआ। रात 11 बजे कड़ी सुरक्षा के बीच महाकालेश्वर मंदिर से भगवान महाकाल की सवारी निकली। अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर प्रशासन ने एहतियातन कदम उठाए थे। इसी के तहत पहली बार सभा मंडप में ही भगवान को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इस दौरान पुजारियों और श्रद्धालुओं की संख्या भी बेहद सीमित रखी गई। पूरे मार्ग में भारी पुलिस बल तैनात रहा। मार्ग को छावनी में तब्दील कर दिया गया था। सवारी कहीं नहीं रुकी। पालकी में सवार राजाधिराज समय पर गोपाल मंदिर पहुंचे। सवारी के गोपाल मंदिर पहुंचने पर परंपरा अनुसार दोनों मंदिर के पुजारियों ने मध्यरात्रि में हरि हर मिलन कराया।भगवान महाकाल व गोपालजी का पंचामृत अभिषेक कर षोड्षोपचार पूजन किया गया। महाकाल की ओर से गोपालजी को बिल्व पत्र तथा गोपालजी की ओर से महाकाल को तुलसी की माला अर्पित की गई। महाकाल मंदिर के पुजारी गोपालजी के लिए मिष्ठान, सूखे मेवे तथा मौसमी फलों की भेंट लेकर आए थे। पूजन पश्चात इन्हें प्रसाद स्वरूप पूजन के दौरान मौजूद भक्तों को बांटा गया। पूजा अर्चना के बाद सवारी फिर महाकाल मंदिर पहुंची।हरि-हर मिलने के लिए भगवान महाकाल को हाथी पर गोपाल मंदिर तक ले जाने की चर्चा चली। हालांकि अधिकारियों ने स्थिति को देखते हुए निर्णय बदले। व्यवस्थाएं बनाते हुए परंपरानुसार पालकी में ही भगवान को गोपाल मंदिर ले जाया गया। सभा मंडप से निकलने के दौरान अधिक संख्या में श्रद्धालु सवारी में शामिल होना चाहते थे। मगर पुलिस ने उन्हें रोक दिया। इस कारण मंदिर से निकलते वक्त कुछ देर के लिए सवारी रुक भी। सिंधिया स्टेट के समय विदाई की परंपरा थी। हरि हर मिलन के बाद गोपाल मंदिर के पुजारी तथा मंदिर के ओहदेदार राजाधिराज को विदाई देने महाकाल मंदिर तक जाते थे। स्टेट की ओर से राजाधिराज महाकाल को विदाई भेंट के रूप में अनेक प्रकार की सामग्री प्रदान की जाती थी। लेकिन स्टेट की यह परंपरा बंद हो गई है। सोमवार तड़के भस्मारती में महाकाल मंदिर परिसर स्थित साक्षी गोपाल मंदिर से पुजारी झांझ डमरू के साथ गोपालजी को गर्भगृह में ले जाते हैं। इस प्रकार महाकाल मंदिर में भस्मारती में हरि हर मिलन होता है।

और ख़बरें >

समाचार