महामीडिया न्यूज सर्विस
एक अद्भुत प्रशिक्षण को प्राप्त कर रहे हैं देशभर के प्रशिक्षणार्थी

एक अद्भुत प्रशिक्षण को प्राप्त कर रहे हैं देशभर के प्रशिक्षणार्थी

admin | पोस्ट किया गया 788 दिन 10 घंटे पूर्व
08/10/2017
भोपाल(महामीडिया) महर्षि सेंटर फार एजूकेशनल एक्सीलेंस, लाम्बाखेड़ा भोपाल में इन दिनों एक अद्भुत प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है। जिसमें पूरे देश के विभिन्न अंचलों से आये प्रशिक्षणार्थी प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में शिरकत करने वाले प्रशिक्षणार्थियों से चर्चा की गई तो उन्होंने अपने अनुभव साझा करते हुए अपने शब्दों में इस प्रशिक्षण की महत्ता पर प्रकाश डाला।
इस प्रशिक्षण को प्राप्त कर रहे महर्षि विद्या मंदिर उत्तर काशी उत्तराखंड के देवव्रत विश्वास का कहना है कि यह प्रशिक्षण पाठ्यक्रम पूरी दुनिया में ज्ञान का सागर है। हमारी वैदिक संस्कृति सनातन है और महर्षि की शिक्षा एवं विचार पूरे विश्व के कल्याण एवं शांति के लिए किस प्रकार चिरस्थाई हो सकते हैं वह ज्ञान इस प्रशिक्षण के माध्यम से प्राप्त हुआ है जिसका हम अपने छात्रों एवं अभिभावकों को देकर विश्व शांति के लिए पहल कर सकते हैं। उनका कहना था कि आज उनके प्रशिक्षण का पाँचवा दिन था। प्रशिक्षण में जो भी सीखकर जायेंगे वह अपने छात्रों को शिक्षा देंगे ताकि भारत पुनः विश्व गुरू बन सके।
वहीं एरोनाटिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर अपने शानदार कैरियर की बजाए महर्षि विद्या मंदिर समूह में वर्ष 2000 से भौतिकी का शिक्षण कार्य करने वाले एक युवा का कहना था कि आज पूरे समाज में कई तरह के शिक्षण संस्थान हैं लेकिन जो बात महर्षि समूह के छात्रों को औरों से अलग करती है वह यह है कि उन्हें संपूर्ण समाज में उत्कृष्टता एवं संपूर्ण मानवता को अपने परिवार के साथ भावातीत ध्यान में निपुणता प्रदान की जाती है। जो आगे चलकर विश्व शांति का संदेश भारत को पुनः विश्व गुरू बनाने का मार्ग प्रशस्त करेगा। यहाँ प्रशिक्षण प्राप्त कर रही माहेश्वरी मेडम का कहना था कि इस प्रशिक्षण में अलग-अलग विधा में अलग-अलग प्रशिक्षण दिये जा रहे हैं किन्तु एकाउंट एवं फाईनेंस का प्रशिक्षण देते हुए बताया गया कि हमें ऐसा काम करना है कि हमारा एकाउंट ऊपर वाला भगवान देख रहा है इतनी ईमानदारी हमें स्वंय रखनी है जिसके लिए सुपरविजन की आवश्यकता नहीं, हमें इसका हिसाब ऊपर देना है। हम आत्मा हैं परमात्मा की संतान हैं। वेद परिपूर्ण है उसमें कुछ जोड़ा नहीं जा सकता किन्तु सनातन संस्कृति को अपनाकर भावातीत ध्यान को अपनाकर विश्व शांति को हासिल कर सकते हैं। गंधर्व वेद, चेतना विज्ञान पर आज विशद् चर्चा हुई। स्थापत वेद एवं ज्योतिष वेद पर गहन, परिपूर्ण एवं सारगर्भित व्यवहारिक ज्ञान से हमें प्रशिक्षण के रूप में अवगत कराया गया।
वहीं इस प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही जोरघाट असम की संगीता गोस्वामी कहती हैं कि भावातीत ज्ञान के बारे में जो गंभीर विषयों का ज्ञान हासिल किया है वह उत्कृष्ट दरजे का है। महर्षि विद्या मंदिर में प्राचार्य के पद पर कार्यरत सगीता जी का कहना था कि यह प्रशिक्षण पाठ्यक्रम निरंतर आयोजित किये जाते हैं और हम सीखकर ऐसे ही प्रशिक्षण पाठ्यक्रम अपने-अपने स्कूलों एवं क्षेत्रों में आयोजित करते हैं ताकि प्राप्त ज्ञाान का फैलाव हो सके और अधिक से अधिक लोग इससे लाभ प्राप्त कर सकें।
यमुना नगर कुरूक्षेत्र में प्राचार्य के पद पर कार्यरत चंद्रदीप कुमार दुबे जिन्होंने जामिया मिलिया विश्वविद्यालय में अध्ययन किया है एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया एवं प्रिंट मीडिया में वर्षों का अनुभव रखते हैं का कहना है कि महर्षि समूह का शिक्षा का स्तर आज के संदर्भ में दूसरों से भिन्न है उनकी कार्यक्षमता, अनुभव, बिल्कुल अलग है। यहाँ से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद कोई भी व्यक्ति भावातीत ध्यान एवं योग के माध्यम से पूरे दिन 12 से 14 घंटे काम कर सकता है। महर्षि विद्या मंदिर उत्तरप्रदेश से पधारे रामलाल सिंह का कहना है कि वह इस समूह से 1998 से जुड़े हुए हैं। उनका अपना अनुभव साझा करते हुए हमें बताया कि अंर्तमन भावतीत ध्यान से ठीक होता है यही कारण है कि आधुनिक जीवन शैली में आप आज भी महर्षि स्कूल क छात्रों को औरों से अलग खड़ा पाते हैं तो उसका सबसे बड़ा कारण यह है कि उन्हें मूल्यों, विश्व शांति एवं भावातीत ध्यान का जो प्रशिक्षण उन्हें एवं उनके अभिभावकों को दिया जा रहा है वह भावी पीढ़ी को न केवल सार्मथ्यवान बना रहा है बल्कि विश्व शांति के लिए पहल कर रहा है।
जब इस प्रशिक्षण को प्राप्त कर रहे सभी प्रशिक्षणार्थियों से प्रशिक्षण के दौरान दिये जा रहे भोजन एवं नाश्ते पर चर्चा की गई तो सभी ने स्वीकारा की प्रशिक्षण के दौरान बैलेंस डाईट ही दिया जा रहा है जिसमें मिर्च, मसाला बिल्कुल तेज नहीं है। इस भोजन में प्रोटीन, कार्बोहाईड्रेट एवं विटामिन  की पर्याप्त मात्रा मिल सके एवं ताजी सब्जियों विशेषकर कीटनाशक मुक्त का प्रबंध सुनिश्चित किया गया है। हैदराबाद से पधारी सर्वजीत कौर का कहना था कि इस परिसर में प्रशिक्षण के लिए प्रत्येक व्यक्ति को जीवन में एक बार आने का अवसर अवश्य मिलना चाहिए। उन्होंने ऐसा महसूस किया क्योंकि आज की भाग-दौड़ की जिंदगी में जो सकून यहाँ के सुरम्भ्य एवं शांत वातावरण में मिला वह इसके पूर्व कभी भी जीवन में अन्यत्र नहीं मिला। 

MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in