महामीडिया न्यूज सर्विस
भारत के पहले गौ अभ्यारण्य में कोई नहीं गायों का रखवाला

भारत के पहले गौ अभ्यारण्य में कोई नहीं गायों का रखवाला

admin | पोस्ट किया गया 663 दिन 17 घंटे पूर्व
28/12/2017
भोपाल (महामीडिया) छत्तीसगढ़ की गौ शालाओं में बड़ी तादाद में भूख-प्यास से गायों के दम तोड़ने के बाद अब पड़ोसी मध्य प्रदेश के आगर मालवा जिले में बने देश के पहले गौ अभ्यारण्य से गायों के लगातार मौत की ख़बर आ रही है. हालांकि, प्रशासन का कहना है कि ठंड के महीने में ये आंकड़े सामान्य हैं. मध्यप्रदेश के आगर-मालवा ज़िले के सलारिया में 28 सितंबर 2017 को देश का पहला गौ अभ्यारण्य महीनों देरी से शुरू हुआ. देरी के बाद भी आरोप है कि वहां सबकुछ दुरस्त नहीं है.सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, दिसंबर में अब तक वहां 52 गायों की मौत हो चुकी है. पोस्टमार्टम में इसकी वजह पॉलिथीन खाना और निमोनिया जैसी बीमारी बताया गया है. आगर के कलेक्टर अजय गुप्ता ने कहा एक दिसंबर से अब तक वहां 52 गायों की मौत हुई है. उनके पोस्टमॉर्टम में प्लास्टिक मिला है, लेंटिना वीड है. विशेषज्ञों की जो टीम आई है, उनके हिसाब से ये आंकड़ा इस सीज़न में बहुत अप्रत्याशित नहीं है.पोस्टमॉर्टम के दौरान गायों के पेट से पॉलिथीन, चमड़े के जूतों के टुकड़े, तार निकले. जांच दल ने गायों के खून, उनको खिलाये जाने वाले भूसे का नमूना ले लिया है. संचालक का मानना है कि अभ्यारण्य के आसपास उगने वाला जहरीला लेंटाना का सेवन भी मौत की वजह हो सकता है. अभ्यारण्य के उप-संचालक से जब पूछा गया कि गायों के रख-रखाव के लिये अब क्या कदम उठाए जाएंगे तो उन्होंने कहा शेड में अब प्लास्टिक लगवा देंगे, गेंदी के पेड़ से शंका है, वो हटवा देंगे. कोशिश रहेगी अच्छी देखभाल हो.हालांकि विपक्षी कांग्रेस इन सरकारी तर्कों से खुश नहीं है. कांग्रेस  ने कहा सिर्फ धर्म की राजनीति के लिये गायों का नाम लिया जाता है. हकीकत में उनकी मौत हो रही है. सरकार को चाहिये उनके खाने पीने का सही से इंतजाम करे. बता दें कि गौ अभ्यारण्य की क्षमता छह हजार गायों की है, जिसमें फिलहाल करीब चार हजार दो सौ गाय रखी जा रही हैं.जानकार भी कहते हैं फिलहाल जो आंकड़ा आया है वो प्राकृतिक है. 32 करोड़ की लागत से बना देश का पहला गौ अभ्यारण्य घोषणा से लेकर शुरू होने तक चर्चाओं में रहा है. इसके खुलने में 2 साल की देर हुई, प्रदेश भर में 2 करोड़ गौवंश के लिये ये नाकाफी बताया गया लेकिन अब गायों की मौत और इसे चलाने के भारी-भरकम बजट के बीच अभ्यारण्य में गायों की देखभाल को लेकर सवाल उठने लगे हैं.
और ख़बरें >

समाचार

MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in