महामीडिया न्यूज सर्विस
उत्तर चीन और उत्तर कोरिया के नये संबंध

उत्तर चीन और उत्तर कोरिया के नये संबंध

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 568 दिन 4 घंटे पूर्व
28/03/2018
भोपाल (महामीडिया)  चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय कमेटी के महासचिव, चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के निमंत्रण पर उत्तर कोरिया की लेबर पार्टी के अध्यक्ष, राज्य परिषद के अध्यक्ष किम जोंग उन ने 25 से 28 मार्च तक चीन की अनौपचारिक यात्रा की। यात्रा के दौरान शी चिनफिंग ने जन वृहत भवन में किम जोंग उन के साथ वार्ता की। चीनी राष्ट्रपति दंपति ने किम जोंग उन व उन की पत्नी री सोल जू के लिये स्वागत भोज आयोजित किया। फिर उन्होंने एक साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम भी देखा। चीनी पोलित ब्यूरो के स्थाई सदस्य, चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग, पोलित ब्यूरो के स्थाई सदस्य, चीनी केंट्रीय सचिवालय के सचिव वांग हूनिंग, उप राष्ट्रपति वांग छीशान ने क्रमशः संबंधित गतिविधियों में भाग लिया। वार्ता में शी चिनफिंग ने किम जोंग उन की पहली चीन यात्रा का स्वागत किया। शी ने कहा कि किम जोंग उन ने 19वीं सीपीसी राष्ट्रीय कांग्रेस के बाद मुझे फिर एक बार चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय कमेटी के महासचिव और सीपीसी की केंद्रीय कमेटी की सैन्य आयोग के अध्यक्ष बनने की बधाई संदेश भेजा। कुछ दिनों से पहले उन्होंने समय पर मुझे फिर एक बार चीन के राष्ट्रपति व राष्ट्रीय केंद्रीय सैन्य आयोग के अध्यक्ष बनने की बधाई दी। मैं इस के लिये उन्हें धन्यवाद देता हूं। इस बार किम जोंग उन की चीन यात्रा बहुत विशेष व महत्वपूर्ण है। इससे जाहिर हुआ है कि किम जोंग उन व कोरियाई लेबर पार्टी की केंद्रीय कमेटी चीन व उत्तर कोरिया की दोनों पार्टियों व दोनों देशों के संबंधों पर बड़ा ध्यान देते हैं। हम इस बात का उच्च मूल्यांकन करते हैं। किम जोंग उन ने कहा कि हाल के कई वर्षों में चीन में बहुत खुशी की बातें हुई हैं। पिछले साल चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 19वीं राष्ट्रीय कांग्रेस का सफल आयोजन हुआ। कुछ समय पहले चीन की एनपीसी व सीपीपीसीसी भी सफलता से आयोजित हुईं। कामरेड शी चिनफिंग को सारी पार्टी व पूरे देश की सभी जनता का समर्थन मिला। वे नेताओं का केंद्र बनकर फिर एक बार चीन के राष्ट्रपति व राष्ट्रीय केंद्रीय सैन्य आयोग के अध्यक्ष बने। उत्तर कोरिया व चीन की मैत्रीपूर्ण परंपरा के अनुसार मुझे आप के सामने बधाई देनी चाहिये। वर्तमान में कोरिया प्रायद्वीप की स्थिति तेजी से बदल रही है। और बहुत महत्वपूर्ण बदलाव भी हुए हैं। ऐसी स्थिति में मुझे महासचिव शी चिनफिंग के सामने सीधे से संबंधित स्थिति बतानी है। शी चिनफिंग ने कहा कि चीन-उत्तर कोरिया की परंपरागत मित्रता दोनों पार्टियों व दोनों देशों की पुरानी पीढ़ी वाले नेताओं द्वारा बनायी गयी है। जो दोनों पक्षों का समान मूल्यवान धन है। पुरानी पीढ़ी वाले नेताओं ने समान आदर्श व विश्वास और गहन क्रांतिकारी दोस्ती के साथ एक दूसरे का विश्वास किया, एक दूसरे का समर्थन दिया, और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के इतिहास में एक सुन्दर कहानी बनायी। चीन व उत्तर कोरिया के बीच कई पीढ़ियों के नेता लगातार रिश्तेदार जैसे घनिष्ठ आदान-प्रदान रखते हैं। लंबे समय में चीन व उत्तर कोरिया की दोनों पार्टियों व दोनों देशों ने आपस में समर्थन देकर और आपस में सहयोग कर समाजवादी कार्य के विकास के लिये महत्वपूर्ण योगदान दिये हैं। मैं और अध्यक्ष किम चीन-उत्तर कोरिया संबंधों के विकास के गवाह हैं। हम दोनों पक्षों ने कई बार यह कहा है कि चीन-उत्तर कोरिया की परंपरागत मित्रता को और आगे बढ़ाया जाएगा। यह दोनों पक्षों द्वारा इतिहास व वास्तविकता के आधार पर अंतर्राष्ट्रीय व क्षेत्रीय स्थिति और चीन-उत्तर कोरिया संबंधों की दृष्टि से किया गया एक रणनीतिक चुनाव है। जो एकमात्र सही चुनाव भी है। इसे किसी समय या किसी बात से नहीं बदलना चाहिये।
वार्ता के बाद शी चिनफिंग व उन की पत्नी फंग लीय्वेन ने किम जोंग उन व उन की पत्नी री सोल जू के लिये स्वागत भोज आयोजित किया। शी चिनफिंग ने भाषण देते हुए कहा कि वसंत के सुन्दर ऋतु में कामरेड किम जोंग उन व सुश्री री सोल जू ने चीन की अनौपचारिक यात्रा की। जो दोनों पक्षों के बीच आदान-प्रदान को गहन करने और सहयोग को मजबूत करने के लिये बहुत महत्वपूर्ण है, दोनों पार्टियों व दोनों देशों के संबंधों को नये युग में नयी मंजिल पर पहुंचाएगा, और अपने क्षेत्र की शांति, स्थिरता व विकास को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण योगदान भी देगा। अभी मैंने अध्यक्ष किम जोंग उन के साथ सच्चे दिल से मैत्रीपूर्ण वार्ता की। हमारी समान राय है कि चीन-उत्तर कोरिया की परंपरागत मित्रता का विकास करना दोनों पक्षों के समान हितों से मेल खाता है। जो दोनों पक्षों का समान रणनीतिक चुनाव ही है। चाहें अंतर्राष्ट्रीय व क्षेत्रीय स्थिति कैसे बदलेगी, हम दोनों विश्व विकास की रुझान व चीन-उत्तर कोरिया संबंधों की आम दृष्टि से उच्च स्तरीय आदान-प्रदान को मजबूत करेंगे, रणनीतिक विचार-विमर्श को गहन करेंगे, सहयोग को विस्तार करेंगे, और दोनों देशों की जनता व विभिन्न देशों की जनता को लाभ देंगे।
किम जोंग उन ने कहा कि कोरिया प्रायद्वीप की स्थिति में अभूतपूर्व बदलाव आया है। ऐसी स्थिति में मैंने प्रायद्वीप की शांति व स्थिरता को मजबूत करने और उत्तर कोरिया-चीन मित्रता का विकास करने की सदिच्छा से चीन की तेज़ यात्रा की। हालांकि यह मेरी पहली यात्रा है। इससे जाहिर हुआ कि उत्तर कोरिया-चीन मैत्रीपूर्ण परंपराओँ का विकास करने, और दोनों की मित्रता को मजबूत करने में मेरा संकल्प सुदृढ़ है। मैंने महासचिव शी चिनफिंग के साथ उत्तर कोरिया-चीन की दोनों पार्टियों व दोनों देशों के संबंधों का विकास करने, अपनी अंदरूनी स्थिति बताने और कोरिया प्रायद्वीप की शांति व स्थिरता की रक्षा करने पर सफलता से वार्ता की। मुझे विश्वास है कि खुशी व आशा भरे वसंत में मैं और महासचिव शी चिनफिंग की पहली भेंट वार्ता से उत्तर कोरिया-चीन की मित्रता में उपलब्धियां हासिल होंगी, और कोरिया प्रायद्वीप की शांति व स्थिरता और मजबूत होगी।
यात्रा के दौरान शी चिनफिंग व पत्नी फंग लीय्वेन ने त्याओयूथाई राष्ट्रीय होटल में किम जोंग उन व उन की पत्नी री सोल जू के लिये दोपहर का भोज आयोजित किया। शी चिनफिंग ने कहा कि त्याओयूथाई राष्ट्रीय होटल ने चीन-उत्तर कोरिया की परंपरागत मित्रता के विकास की पुष्टि की। दोनों पार्टियों व दोनों देशों के पुरानी पीढ़ी वाले नेताओं के बीच प्राप्त घनिष्ठ संबंध हमारे लिये एक आदर्श है। हम अध्यक्ष किम जोंग उन व उन की पत्नी री सोल जू के अकसर चीन की यात्रा करने का स्वागत करते हैं। किम जोंग उन ने कहा कि उत्तर कोरिया व चीन की मित्रता बहुत मूल्यवान है। मैं महासचिव के साथ पुरानी पीढ़ी वाले नेताओं के महान आदर्श का पालन करके उत्तर कोरिया-चीन मैत्रीपूर्ण संबंधों का विकास करना चाहता हूं, और नयी स्थिति में इसे और ऊंचे स्तर पर पहुंचाने की कोशिश करूंगा।
किम जोंग उन ने सीपीसी की 18वीं राष्ट्रीय कांग्रेस के बाद चीनी विज्ञान अकादमी द्वारा प्राप्त सृजन व उपलब्धि संबंधी प्रदर्शनी देखी। उन्होंने विज्ञान व तकनीक के विकास व सृजन में चीन द्वारा प्राप्त सफलता की खूब प्रशंसा की, और प्रदर्शनी देखकर शिलालेख किया। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के पोलित ब्यूरो के सदस्य, चीनी केंट्रीय सचिवालय के सचिव, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के केंद्रीय कार्यालय के अध्यक्ष तिंग श्येएश्यांग, पोलित ब्यूरो के सदस्य यांग चेछी, पोलित ब्यूरो के सदस्य, चीनी केंट्रीय सचिवालय के सचिव, केंद्रीय राजनीति व कानून आयोग के सचिव क्वो शनख्वेन, पोलित ब्यूरो के सदस्य, चीनी केंट्रीय सचिवालय के सचिव, केंद्रीय प्रसार-प्रचार मंत्रालय के मंत्री ह्वांग खुनमिंग, पोलित ब्यूरो के सदस्य, पेइचिंग की पार्टी समिति के सचिव छै छी, स्टेट कौंसिलर, विदेश मंत्री वांग ई आदि ने संबंधित गतिविधियों में भाग लिया। उत्तर कोरिया की लेबर पार्टी की केंद्रीय समिति के उपाध्यक्ष, संगठन निर्देशन मंत्रालय के मंत्री छोए रयोंग हाए, लेबर पार्टी की केंद्रीय समिति के उपाध्यक्ष, प्रसार-प्रचार मंत्रालय के मंत्री पार्क क्वांग-हो, लेबर पार्टी की केंद्रीय समिति के उपाध्यक्ष, अंतर्राष्ट्रीय मंत्रालय के मंत्री री सू योंग, लेबर पार्टी की केंद्रीय समिति के उपाध्यक्ष, पुनरेकीकरण मोर्चा मंत्रालय के मंत्री किम येओंग छेओल, उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री ली योंग हो आदि ने किम जोंग उन के साथ चीन की यात्रा की और संबंधित गतिविधियों में भाग लिया।
और ख़बरें >

समाचार

MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in