महामीडिया न्यूज सर्विस
>>
समाचार

  • ज्ञान, शक्ति और आनन्द का अनन्त सागर है

    भोपाल (महामीडिया) श्रीमद्भगवतगीता में भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन के माध्यम से समस्त मानवता को देशकाल बन्धन से परे किये गये उपदेश में योगस्थः कुरूकर्माणि, योगः कर्मसुकौशलम्, सहजम् कर्मकौन्तेय, निस्त्रैगुण्यो भवार्जुन आदि अभिव्यक्तियों से गूढ़ रहस्य उद्घाटित कर दिये हैं। ध्यान देने की बात यह है कि भगवान के उपदेश में बौद्धिक स्तर से  >>और पढ़ें

  • श्री गुरुदेव की कृपा का फल

    भोपाल (महामीडिया) ब्रह्मलीन पूज्य महर्षि महेश योगी जी ने भारतीय शाश्वत् पारम्परिक वैदिक विज्ञान का अखण्ड दीप प्रज्जवलित कर इसकी प्रकाशमय ज्योति से सारे विश्व को पूर्ण ज्ञान का प्रसाद दिया। महर्षि जी वैदिक भारत के स्वर्णिम इतिहास में एक ऐतिहासिक अद्वितीय उदाहरण छोड़ गयें जब हम अपने गुरु के लिए ब्रह्मा, विष्णु, शिव और परब्रह्म की उपाध& >>और पढ़ें

  • यज्ञ की प्रक्रिया अत्यन्त शुद्ध और विधान निश्चित हैं- ब्रह्मचारी गिरीश

    भोपाल (महामीडिया) गुरूदेव ब्रह्मानन्द सरस्वती आश्रम, भोपाल में वैदिक यज्ञाचार्यों से चर्चा के दौरान परमपूज्य महर्षि महेश योगी जी के प्रिय तपोनिष्ठ शिष्य ब्रह्मचारी गिरीश जी ने यज्ञों में शुद्धता पर बहुत जोर डाला। उन्होंने बताया कि "वैदिक ग्रन्थों में वर्णित वैदिक विधानों और प्रक्रियाओं के अनुसार ही यज्ञों का संपादन किया जाना चाì >>और पढ़ें

  • सत्यमेवजयते बहुत महत्वपूर्ण सिद्धाँत

    भोपाल (महामीडिया) परम पूज्य महर्षि महेश योगी जी के प्रिय तपोनिष्ठ शिष्य ब्रह्मचारी गिरीश जी ने आज कहा कि "सत्यमेवजयते" एक बहुत बड़ा, महत्वपूर्ण और मूल्यवान सिद्धाँत है। जो मनुष्य अपनी दिनचर्या, जीवनचर्या सत्य पर आधारित रखेंगे उन्हें सदा विजय की प्राप्ति होगी, पराजय कभी नहीं देखनी पड़ेगी। उन्होंने कहा कि वैदिक वांगमय सत्य सम्बन्धी गाथा >>और पढ़ें

  • आज है निर्जला एकादशी

    नई दिल्ली[महामीडिया]    ज्येष्ठ माह में शुक्ल पक्ष एकादशी को निर्जला एकादशी कहा जाता है। इस बार निर्जला एकादशी पर गुरुवार होने से शुभ संयोग बन रहा है। ज्योतिष विद्वानों के अनुसार यह संयोग छह वर्ष बाद बन रहा है। इस दिन लोग निर्जल व्रत रखकर विधि-विधान से दान करते हैं। एकादशी व्रत विशेष रूप से जगत के पालनकर्ता भगवान विष्णु के निमित्त किया  >>और पढ़ें

  • दो से अधिक बच्चे वालों का मताधिकार खत्म हो - बाबा रामदेव

    हरिद्वार  (महामीडिया) हरिद्वार में चल रहे ज्ञानकुंभ में योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा दो से अधिक बच्चे वाले लोगों का मताधिकार खत्म होना चाहिए। इसके अलावा "जो हमारी तरह विवाह न करें उनका विशेष सम्मान होना चाहिए।" ज्ञानकुंभ में बोलते हुए उन्होंने कहा कि अगले 20-25 साल में योग के साथ भारतीय वैदिक परंपरा का साम्राज्य पूरे विश्व में स्थापित हो जाए >>और पढ़ें

  • ऐसे हैं धनतेरस के देवता चिकित्साशास्त्र और आयुर्वेद के प्रणेता भगवान धन्वंतरि

    भोपाल (महामीडिया) पूरे देश में दिवाली के दो दिन पहले धनतेरस का पर्व धूमधाम से मनाया जाता है। इस बार धनतेरस 5 नवंबर को पड़ रहा है। इस दिन धन आरोग्य के लिए भगवान धन्वंतरि पूजे जाते हैं। कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी के दिन यह पर्व भारत ही नहीं, बल्कि पूरे विश्व में वैद्य समाज द्वारा मनाया जाता है, जिसके अंतर्गत भगवान धन्वंतरि की आराधना कर आभार माना  >>और पढ़ें

  • भगवान महाकाल की इस बार 5 सवारी

    उज्जैन (महामीडिया) कार्तिक-अगहन मास में राजाधि राज महाकाल की पांच सवारी निकलेंगी। अवंतिकानाथ रजत पालकी में सवार होकर तीर्थ पूजन के लिए मोक्षदायिनी शिप्रा के रामघाट पहुंचेंगे। 21 नवंबर को मध्यरात्रि में गोपाल मंदिर पर हरि-हर मिलन होगा।श्रावण-भादौ मास की तरह कार्तिक-अगहन मास में भी भगवान महाकाल की सवारी निकलती है। खास बात यह है कि श्राë >>और पढ़ें

  • गंगा शुद्धीकरण के लिए छह शहरों में बनेंगे स्टेशन

    भोपाल (महामीडिया)    गंगा को अविरल रखने के लिए आइइटी यूके की ओर से वस्तुस्थिति का डाटा तैयार किया जा रहा है। इसके लिए हरिद्वार से पश्चिम बंगाल तक छह आइओटी स्टेशन स्थापित किए जाएंगे। ताकि हर जगह से डाटा को एकत्र किया जा सके, जिसके आधार पर एसटीपी की डिजाइन तैयार की जाएगी।इस काम के लिए आइआइटी, बीएचयू स्थित बायो केमिकल इंजीनियरिंग विभाग के को & >>और पढ़ें

  • 31 अक्टूबर को 30 साल बाद पुष्य नक्षत्र

    भोपाल (महामीडिया)  कोई भी नया कार्य या व्यवसाय शुरू करने के लिए अथवा स्वर्ण व रजत आभूषण खरीदने के लिए शुभ माने जाने वाला पुष्य नक्षत्र का संयोग इस बार 31 अक्टूबर को पड़ रहा है। इस साल धनतेरस से पूर्व पड़ रहे पुष्य नक्षत्र को इसलिए खास माना जा रहा है क्योंकि 30 बरस बाद बुध पुष्य योग में पुष्य नक्षत्र पड़ रहा है।इस दिन सप्तमी तिथि के साथ पुष्य नक्षत् >>और पढ़ें

  • धर्म की विजय का प्रतीक उत्सव दशहरा आज

     भोपाल(महामीडिया)          विजयादशमी भारतीय परंपरा के महत्वपूर्ण त्योहार है। इसे बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक और संदेश के रूप में मनाया जाता है। इसे दशहरा भी कहा जाता है। पारंपरिक तौर पर इसे रावण पर राम की विजय के दिन के रूप में मनाया जाता है।बुराई किसी भी भी रूप में हो सकती हैं, जैसे क्रोध, असत्य, बैर, इर्ष्या, दुख, आलस्य आदि। किसी भी आतंरì >>और पढ़ें

  • धर्म की विजय का प्रतीक है उत्सव दशहरा

    भोपाल  (महामीडिया)  विजयादशमी भारतीय परंपरा के महत्वपूर्ण त्योहार है  । इसे बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक और संदेश के रूप में मनाया जाता है। इसे दशहरा भी कहा जाता है। पारंपरिक तौर पर इसे रावण पर राम की विजय के दिन के रूप में मनाया जाता है।बुराई किसी भी भी रूप में हो सकती हैं, जैसे क्रोध, असत्य, बैर, इर्ष्या, दुख, आलस्य आदि। किसी भी आतंरिक ब >>और पढ़ें

  • देवी के नौ रूपों में मानकर नवरात्र में की जाती है कन्या पूजा

    भोपाल (महामीडिया)  नवरात्र में कन्या पूजन का खास महत्व है। कन्या को देवी का स्वरूप मानकर उनकी पूजा की जाती है। मान्यता है नवरात्र के अवसर पर कन्या पूजन करने से सुख, शांति और समृद्धि का वरदान मिलता है।
    कुमारी : दो वर्ष की कन्या को कुमारी कहा जाता है। दुख और दरिद्रता का शमन करने के लिए इनका पूजन किया जाता है।
    त्रिमूर्ति : तीन वर्ष की कन्या को त्र >>और पढ़ें

  • शारदीय नवरात्र 2018 के इस शुभ मुहूर्त में करें कलश स्थापना

    भोपाल (महामीडिया) 10 अक्टूबर, बुधवार से शारदीय नवरात्र प्रारंभ हो रहे हैं. मां इस बार नौका पर सवार होकर आ रही हैं. इसका अर्थ है कि इस बार देवी पृथ्वी के समस्त प्राणियों की इच्छाओं को पूर्ण करेंगी. मां का जो भी भक्त श्रद्धापूर्वक पूजन और व्रत अर्थात निर्मल मन से शुभ फल की इच्छा करेंगे, मां दुर्गा उनकी मनोकामना पूर्ण करेंगी. पूरे देश में शारदीय न >>और पढ़ें

  • सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या पर आज करें पितरों का श्राद्ध

    भोपाल (महामीडिया) आज सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या है। जिन लोगों को अपने पितरों के श्राद्ध का दिन पता नहीं होता वह सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या के दिन अपने पितरों का श्राद्ध कर सकते हैं। इसके लिए हमारे पुराणों में सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या का दिन निश्चित किया गया है। सुबह उठकर नहाएं, उसके बाद पूरे घर की सफाई कर घर में गंगाजल और गौमूत्र भी छीड़कें।  >>और पढ़ें


नये चित्र

महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
योग
योग
विराट जीत
विराट जीत
कुछ और चित्र
MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in