महामीडिया न्यूज सर्विस
>>
समाचार

  • भगवान विष्णु को समर्पित भडली नवमी का त्योहार आज

    भोपाल(महामीडिया)   प्रतिवर्ष आषाढ़ शुक्ल नवमी को भडली  नवमी पर्व मनाया जाता है। नवमी तिथि होने से इस दिन गुप्त नवरात्रि का समापन भी होता है। वर्ष 2018 में यह पर्व 21 जुलाई 2018, शनिवार को मनाया जाएगा। पौराणिक शास्त्रों के अनुसार भड़ली नवमी का दिन भी अक्षय तृतीया के समान ही महत्व रखता है अत: इसे अबूझ मुहूर्त मानते हैं तथा यह दिन शादी-विवाह को लेकर खì >>और पढ़ें

  • भव्य और विशाल होगा अगले वर्ष शुरू होने वाला कुंभ

    भोपाल (महामीडिया) वर्ष 2019 में 4 फरवरी से प्रयाग में अर्धकुंभ लगेगा। उत्तरप्रदेश सरकार इसे भव्य और विशाल बनाने हेतु इस अर्धकुंभ की बड़े पैमाने पर तैयारी कर रही है। यूनेस्को ने कुंभ को विश्व की सांस्कृतिक धरोहरों में शामिल किया है। इसके लिये सरकार ने पूरे विश्व को इसकी भव्यता दिखाने के लिये प्रयास शुरू कर दिये हैं। इस कुंभ में अखाड़ों से जुड़í >>और पढ़ें

  • सावन में ना करें ये 9 काम शिवजी हो जाते हैं नाराज

    नई दिल्ली    (महामीडिया ) सावन का महीना देवों के देव महादेव को बहुत प्रिय है। शास्त्रों के अनुसार, अन्य दिनों के अपेक्षा सावन के महीन में शिव की पूजा और अभिषेक करने से जल्दी और कई गुणा अधिक लाभ मिलता है। सावन के महीने में भगवान शिव और माता पार्वती से जो भी मांगा जाता है, वह अवश्य देते हैं। लेकिन जाने-अनजाने हम ऐसी गलती कर देते हैं, जिससे भगवान क& >>और पढ़ें

  • देवशयनी एकादशी और इसका महत्व

    नई दिल्ली (महामीडिया)  आषाढ़ शुक्ल एकादशी को "देवशयनी एकादशी" कहा जाता है. इस एकादशी से अगले चार माह तक श्रीहरि विष्णु योगनिद्रा मे चले जाते हैं इसलिए अगले चार माह तक शुभ कार्य वर्जित हो जाते हैं. इसी समय से चातुर्मास की शुरुआत भी हो जाती है. इस एकादशी से तपस्वियों का भ्रमण भी बंद हो जाता है. इन दिनों में केवल ब्रज की यात्रा की जा सकती है. इस बार देवशयन >>और पढ़ें

  • धरती का बैकुंठ है जगन्नाथ पुरी

    भोपाल (महामीडिया) पुराणों में जगन्नाथ पुरी को धरती का बैकुंठ कहा गया है. ब्रह्म और स्कंद पुराण के अनुसार, पुरी में भगवान विष्णु ने पुरुषोत्तम नीलमाधव के रूप में अवतार लिया था. वह यहां सबर जनजाति के परम पूज्य देवता बन गए. सबर जनजाति के देवता होने की वजह से यहां भगवान जगन्नाथ का रूप कबीलाई देवताओं की तरह है. जगन्नाथ मंदिर की महीमा देश में ही नह&# >>और पढ़ें

  • नैसर्गिक सौंदर्य के बीच अमरता की यात्रा है बाबा अमरनाथ यात्रा

    भोपाल (महामीडिया) अमरनाथ यात्रा आज से शुरू हो रही है। अमरनाथ गुफा भगवान शिव के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। अमरनाथ को तीर्थों का तीर्थ कहा जाता है क्योंकि यहीं पर भगवान शिव ने माँ पार्वती को अमरत्व का रहस्य बताया था। यह केवल श्रद्धा की यात्रा ही नहीं, वरन भक्ति, ज्ञान और कर्म को सार्थक करती यात्रा भी है। कश्मीर धरती का स्वर्ग कहलात& >>और पढ़ें

  • माँ गंगा के प्रति अपार श्रद्धा का पर्व 'गंगा दशहरा' आज

    भोपाल (महामीडिया) हिन्दू धर्म में मनाया जाने वाला महत्वपूर्ण पर्व गंगा दशहरा देवी गंगा को समर्पित एक पर्व है जिसे ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। गंगा दशहरा को गंगावतारण् भी कहा जाता है। गंगा दशहरा आज है। माँ गंगा का नाम लेने, सुनने, उसे देखने, उसका जल ग्रहण करने, छूने और उसमें स्नान करने से मनुष्य के जन्मों-जन्मों  >>और पढ़ें

  • बरगद की पूजा से आती है सौभाग्य और समृद्धि

    भोपाल (महामीडिया) आज वट सावित्री व्रत है। अखंड सुहाग की कामना से प्रतिवर्ष सुहागिन महिलाओं द्वारा ज्येष्ठ मास की अमावस्या को वट सावित्री व्रत रखा जाता है। ऐसी मान्यता है कि वट वृक्ष की जड़ों में ब्रह्मा, तने में भगवान विष्णु एवं डालियों में त्रिनेत्रधारी शिव का निवास होता है। इसलिए इस वृक्ष की पूजा से सभी मनोकामनाएं शीघ्र पूर्ण होती हí >>और पढ़ें

  • कुंभ 2019 में 49 दिन रहेगा कल्पवास

    इलाहाबाद (महामीडिया) अगले वर्ष कुंभ 2019 का आयोजन 14 जनवरी से होगा जो कि चार मार्च तक चलेगा। संगम मेले में 12 करोड़ तीर्थ यात्रियों के आने का अनुमान लगाया गया है। इस अवधि में 14 जनवरी को मकर संक्रांति, 21 फरवरी को पौष पूर्णिमा, चार फरवरी को मौनी अमावस्या, 10 फरवरी को वसंत पंचमी, 19 फरवरी को माघी पूर्णिमा व चार मार्च को महाशिवरात्रि मुख्य स्नान पर्व होंगे। इ >>और पढ़ें

  • आज कालाष्‍टमी है

    नई दिल्ली (महामीडिया) आज कालाष्‍टमी है। इस दिन को भैरवाष्टमी भी कहते हैं। कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालाष्‍टमी का त्‍योहार मनाया जाता है। ये दिन शिव के कालभैरव स्‍वरूप की पूजा को समर्पित होता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार काल भैरव की उत्‍पत्‍ति भगवान शिव के क्रोध से हुई है। नारद पुराण में कहा गया है कि कालाष्टमी को भैरव और देवी दुर्गा &# >>और पढ़ें

  • अनुपम ऐश्वर्य को प्राप्त कराता है ज्येष्ठ का महीना

    भोपाल (महामीडिया) ज्येष्ठ मास का आरंभ होता है तो गर्मी का मौसम ऊफान पर होता है। ज्येष्ठ महीने में सूर्य अत्यंत ताक़तवर होता है , इसलिए गर्मी भी भयंकर होती है. सूर्य की ज्येष्ठता के कारण इस माह को ज्येष्ठ कहा जाता है. गर्मियों में पानी की किल्लत से हर कोई परेशान रहता है यही कारण हैं कि बड़े बुजूर्गों ने इन पर्व त्यौहारों के जरिये पानी का महत्व &# >>और पढ़ें

  • दु:खों का प्रहाण सही ज्ञान द्वारा ही सम्भव है: भगवान बुद्ध

    भोपाल (महामीडिया)  बुद्ध पूर्णिमा बौद्ध धर्म का सबसे बड़ा त्यौहार है। वैशाख पूर्णिमा के दिन बुद्ध पूर्णिमा मनाई जाती है। कहते है इसी दिन भगवान बुद्ध को बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी| जहां विश्वभर में बौध धर्म के करोड़ों अनुयायी और प्रचारक है वहीँ उत्तर भारत के हिन्दू धर्मावलंबियों द्वारा बुद्ध को विष्णुजी का नौवा अवतार माना कहा गया है| बु >>और पढ़ें

  • अत्यंत पवित्र एवं फलदायी होती है वैशाखी पूर्णिमा

    भोपाल (महामीडिया) वैशाखी पूर्णिमा को भविष्य पुराण, आदित्य पुराण में अत्यंत पवित्र एवं फलदायी माना जाता है। वैशाख पूर्णिमा को महात्मा बुद्ध की जयंती के रूप में भी मनाया जाता है। इस दिन पिछले एक महीने से चला आ रहा वैशाख स्नान एवं विशेष धार्मिक अनुष्ठानों की पूर्ण आहूति की जाती है। मंदिरों में हवन-पूजन के बाद वैशाख महात्म्य कथा का परायण क >>और पढ़ें

  • अनंत अक्षय का प्रतीक है अक्षय तृतीया

    भोपाल (महामीडिया) वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार अत्यंत शुभ माना जाता है और इस शुभ तिथि को कहा जाता है अक्षय तृतीया अथवा आखा तीज| अक्षय तृतीया को अनंत-अक्षय-अक्षुण्ण फलदायक कहा जाता है। जो कभी क्षय नहीं होती उसे &# >>और पढ़ें

  • अक्षय तृतीया पर्व पर खुलेंगे गंगोत्री-यमुनोत्री के कपाट

    उत्तरकाशी (महामीडिया) अक्षय तृतीया पर्व पर 18 अप्रैल को गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के कपाट खुलेंगे। दोनों मंदिरों को रंग-बिरंगे फूलों से सजाया जाएगा। वहीं, श्री यमुनोत्री मंदिर समिति व पंच पंडा समिति ने भी कपाट खोलने की तैयारी पूरी कर ली है। 18 अप्रैल को सुबह सवा नौ बजे शनिदेव की अगुआई में देवी यमुना की डोली उनके मायके खरसाली से यमुनोत्री के  >>और पढ़ें


नये चित्र

महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
योग
योग
विराट जीत
विराट जीत
कुछ और चित्र
MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in