महामीडिया न्यूज सर्विस
>>
समाचार

  • बुरी शक्तियों से बचाने के लिए वरूण देव की पूजा

    भोपाल (महामीडिया) झूलेलाल जयंती चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया को मनाई जाती है। झूलेलाल जयंती सिंधी समाज का सबसे बड़ा पर्व है। झूलेलाल भगवान वरुण देव का अवतार रूप है। झूलेलाल उत्स्व चेटीचंड का पर्व सिंधी समाज वैदिक काल से मनाता आ रहा है। झूलेलाल के अन्य नाम हिन्दू धर्म में भगवान झूलेलाल के अन्य नाम उदेरोलाल, ललसाई, अमरपाल, जिन्दपी >>और पढ़ें

  • नवरात्रि में माता को अर्पित करें ये 9 भोग

    भोपाल (महामीडिया) नवरात्रि का पहला दिन मां के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा की जाती है। शैलपुत्री को सफेद चीजों का भोग लगाया जाता है इसलिए माता दुर्गा को गाय के शुद्ध घी का भोग लगाएं। नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्राचारिणी को चीनी और मिश्री का भोग लगाना शुभ माना जाता है। साथ ही इन चीजों को दान करने से सौभाग्य में बढ़ोतरी होती है। रात्रि के ती >>और पढ़ें

  • द्वितीय मां ब्रह्मचारिणी करती हैं मंगल को शांत

    भोपाल (महामीडिया) मां ब्रह्मचारिणी की पूजा नवरात्रि के दूसरे दिन होती है। देवी के इस रूप को माता पार्वती का अविवाहित रूप माना जाता है। ब्रह्मचारिणी संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ, ब्रह्म के समान आचरण करने वाली। इन्हें कठोर तपस्या करने के कारण तपश्चारिणी भी कहा जाता है। माता ब्रह्मचारिणी श्वेत वस्त्र पहने दाहिने हाथ में जप माला और बाएं हा >>और पढ़ें

  • सृष्टि की वर्षगांठ नवसंवत्सर की शुरुआत आज से

    नई दिल्ली (महामीडिया) चैत्रे मासि जगद् ब्रह्मा ससर्ज प्रथमे अहनि, शुक्ल पक्षे समग्रेतु तु सदा सूर्योदये सति। ब्रह्म पुराण में वर्णित इस श्लोक के अनुसार चैत्र मास के प्रथम सूर्योदय पर ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की थी। इसी दिन से विक्रमी संवत की शुरुआत होती है। आर्या हिंदू विक्रमी संवत आज भी धार्मिक अनुष्ठानों और मांगलिक कार्यों में >>और पढ़ें

  • नवरात्रि का पहला दिन शैलपुत्रि

    वाराणसी  (महामीडिया) चैत्र नवरात्रि का शुभारंभ रविवार से हो गया है। नवरात्र के पहले दिन देवी मां के पहले स्वरूप शैलपुत्री की पूजा अर्चना की जाती है। नवरात्रों में देशभर के मंदिर सजाए जाते हैं, जहां पूरे 9 दिन मां के सभी रूपों की पूजा की जाती है। इसी क्रम में धर्म की नगरी काशी के अलइपुरा इलाके स्थित देवी शैलपुत्री मंदिर में भक्तों की भीड़ उमड़ रì >>और पढ़ें

  • गुड़ी पड़वा आज

    भोपाल (महामीडिया) हिंदू पंचाग के अनुसार 18 मार्च को साल का शुभारंभ हो रहा है। साथ ही इस दिन गुड़ी पड़वा का त्योहार भी है। जो कि बहुत ही ख़ास है। इन उत्सवों में शुभ योग होने के कारण इसका महत्व अधिक बढ़ जाता है। माना जाता है कि गुड़ी पाड़वा के दिन विधि-विधान के साथ पूजा-पाठ करने से आपको हर साल किसी भी चीज की कमी नहीं होती है। साथ ही घर में सुख-समृद्ध&# >>और पढ़ें

  • चैत्र नवरात्र आज से शुरू

    भोपाल (महामीडिया) चैत्र नवरात्र की शुरुआत आज से हो रही है। नौ दिनों के इस उत्‍सव को चैत्र माह के शुक्‍ल पक्ष में मनाया जाता है। इस में शक्‍ति रूपा माता के नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना होती है। इस बार अष्टमी और नवमी एक ही दिन 25 मार्च को मनाई जाएगी। घट स्थापना का श्रेष्ठ मुहूर्त सुबह 08.02 से 11.32 बजे तक चर, लाभ और अमृत के चौघड़िया और वृषभ लग्न में है। हालां& >>और पढ़ें

  • गुड़ी पड़वा का पौराणिक महत्व

    भोपाल (महामीडिया) गुड़ी पड़वा हर साल चैत्र नवरात्रि के शुरु होने के पहले दिन मनाया जाता है। गुड़ी का मतलब होता है विजय पताका और पड़वा का मतलब शुक्ल पक्ष का पहला दिन। इस दिन को बहुत ही शुभ दिन माना जाता है। इस शुभ मुहूर्त पर कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है। गुड़ी पड़वा का पर्व महाराष्ट् के अलावा आंध्र प्रदेश, गोवा और तेलंगाना में अलग-अलग नाम >>और पढ़ें

  • आठ दिन के होंगे नवरात्र

    भोपाल (महामीडिया) चैत्र नवरात्र 18 मार्च से शुरू हो रहे हैं। इस बार नवरात्र आठ दिन होंगे। अष्टमी और नवमी तिथि एक दिन यानी 25 मार्च को पड़ रही हैं। इसी दिन कन्या पूजन के साथ नवरात्र पूजा अनुष्ठान पूरा होगा। मंदिरों में नवरात्र महोत्सव और रामनवमी की तैयारियां भी शुरू हो चुकी हैं। प्रतिपदा 17 मार्च को शाम 7.41 बजे से शुरू हो जाएगी। लेकिन, घटस्थापन व अ&# >>और पढ़ें

  • बस्तर, वो स्थान जहां देवी-देवता भी खेलते हैं होली

    बस्तर (महामीडिया) होली का त्योहार यूं तो पूरे भारत वर्ष में धूमधाम से मनाया जाता है, पर छत्तीसगढ़ के बस्तर इलाके में पारम्परिक होली का अंदाज कुछ जुदा है. लोग यहां होली देखने दूर-दूर से आते हैं. यहां होली में होलिका दहन के दूसरे दिन पादुका पूजन व 'रंग-भंग' नामक अनोखी और निराली रस्म होती है. इसमें सैकड़ों की संख्या में लोग हिस्सा लेते हैं. मान्यत >>और पढ़ें

  • आनंदपुर साहब में "होला महल्ला" उत्सव शुरू

    चंडीगढ़ (महामीडिया) आनंदपुर में आज से होला महल्ला उत्सव शुरू हो गया है। होला शब्द होली की सकारात्मकता का प्रतीक है और महल्ला का अर्थ उसे प्राप्त करने का पराक्रम। रंगों के त्योहार के आनंद को मुखर करने के लिए गुरु जी ने इसमें व्याप्त हो गई कई बुराइयों का निषेध किया। होली के त्योहार का आयोजन इस तरह से किया जाने लगा कि पारस्परिक बंधुत्व और प&# >>और पढ़ें

  • होली: भद्रा के बाद होगा होलिका दहन

    भोपाल (महामीडिया) होली का त्योहार आमतौर पर दो दिनों का होता है। पहले दिन होलिका दहन किया जाता है और उसके अगले दिन रंगोत्सव मनाया जाता है जिसे धुलण्डी भी कहा जाता है। शास्त्रों के नियमानुसार होलिका दहन फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि में करना चाहिए। इस साल 1 मार्च को सुबह 8 बजकर 58 मिनट से पूर्णिमा तिथि लग रही है लेकिन इसके साथ भद्रा भी लगा होगा। & >>और पढ़ें

  • यज्ञीय पर्व है होली

    भोपाल (महामीडिया) वसंत के अंत में जब ऋतु बदलती है, तो होली आती है। होली मूलतः एक यज्ञीय पर्व है। नई फसल के पकने पर 'नवअन्न यज्ञ' के जरिए अन्न को यज्ञीय ऊर्जा से संस्कारित कर उसे समाज को समर्पित करने का भाव रहता है, इसीलिए होली को 'वासंती नव-सस्येष्टि' यज्ञ नाम भी दिया है। मूल त्योहार फागुन की पूर्णिमा और उसके अगले दिन माना जाता है, लेकिन शुरुआत आ >>और पढ़ें

  • आदिवासी जिलों में सात दिन तक भगोरिया पर्व की धूम

    झाबुआ (महामीडिया) मप्र के झाबुआ, आलीराजपुर, खंडवा, खरगोन, धार में शुक्रवार से सात दिन तक चलने वाला भगोरिया पर्व शुरू हो गया। ग्रामीण इलाकों के हाट बाजारों में करीब 50 हजार लोगों ने मेलों का आनंद लिया। पहले दिन आलीराजपुर के वालपुर, कट्ठीवाड़ा, उदयगढ़ व झाबुआ के कालीदेवी, भगोर, बेकल्दा, मांडली और धार के मनावर, राजगढ़ और बरखेड़ा में मेला लगा। विभिन्न >>और पढ़ें

  • मथुरा के रमण रेती में होली की धूम

    मथुरा (महामीडिया) होली का त्योहार पूरे देश में 2 मार्च को मनाया जाएगा लेकिन इसकी शुरुआत मथुरा के रमणरेती हो चुकी है। मथुरा में भक्तों ने राधा कृष्ण के संग होली खेलकर रंगोत्सव का आरंभ कर दिया। भक्ति के रस में सराबोर होकर झूमते भक्तों पर रंगों की बौछार की जाती है। रमण रेती के बारे में कहा जाता है कि सिद्घ संत आत्मानंद गिरि को यहां भगवान श्रीè >>और पढ़ें


नये चित्र

महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
योग
योग
विराट जीत
विराट जीत
कुछ और चित्र
MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in