छात्रों के वीजा के मामले में झुका अमेरिका

छात्रों के वीजा के मामले में झुका अमेरिका

न्यूयॉर्क  [ महामीडिया ]  जिन छात्रों के पाठ्यक्रम कोरोना वायरस के कारण ऑनलाइन चल रहे हैं उन विदेशी छात्रों का वीजा रद्द करने का संयुक्त राज्य अमेरिका के विवादास्पद फैसले को सरकार ने रद्द कर दिया है। एक संघीय न्यायाधीश ने मंगलवार को यह जानकारी दी। हार्वर्ड और एमआईटी विश्वविद्यालयों ने कई अन्य संस्थानों के समर्थन के साथ विदेशी छात्रों के वीजा को रद्द करने के सरकार के कदम के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की थी।बताते चलें कि इससे पहले अमेरिकी आव्रजन और सीमा शुल्क प्रवर्तन ने 6 जुलाई को घोषित किया था कि जिन विदेशी छात्रों की क्लास कोरोना वायरस की वजह से ऑनलाइन शिफ्ट हो गई है, उन्हें देश छोड़कर जाना होगा। इस मामले में न्यायाधीश एलीसन बरोज ने एक संक्षिप्त सुनवाई में कहा, "सरकार फैसले को रद्द करने के साथ-साथ इसके किसी भी निर्देश के कार्यान्वयन को रद्द करने के लिए सहमत हो गई है।इस महीने की शुरुआत में हार्वर्ड और MIT ने कोर्ट से ICE द्वारा घोषित आदेश को रोकने के लिए कहा था। संस्थानों ने कोर्ट को बताया था कि उन छात्रों को देश छोड़ने के लिए कहा गया है, जिनकी कक्षाएं ऑनलाइन शिफ्ट हो गई हैं। इससे बचने के लिए व्यक्तिगत ट्यूशन देने वाले स्कूल में ट्रांसफर लेने की छात्रों को सलाह दी गई थी। इस उपाय को ट्रंप प्रशासन द्वारा उन शैक्षणिक संस्थाओं पर दबाव के रूप में देखा गया था, जो वैश्विक COVID-19 महामारी के बीच सतर्कता बरतते हुए फिर से खोले जाने की कोशिश कर रहे थे। 2018-19 शैक्षणिक वर्ष के लिए अमेरिका में 10 लाख से अधिक अंतर्राष्ट्रीय छात्र थे।
 

सम्बंधित ख़बरें