माचिस की तीली से कलाकृतियां बना विदेशों में छाया एक भारतीय कलाकार

माचिस की तीली से कलाकृतियां बना विदेशों में छाया एक भारतीय कलाकार

पानीपत [ महामीडिया ] एक व्यक्ति जो बोल सुन नहीं सकता, लेकिन उस कलाकार की दुनिया दीवानी है। वह जो कारनामा माचिस की तीली से करता है, उससे देखकर हर कोई हैरान है। विदेशों में तो उसकी बनाई कलाकृतियां सहेज कर रखी गई हैं। जी हां, ये सच है। हम बात कर रहे हैं नरवाना के बीरबल नगर निवासी प्रदीप कुमार की। मूकबधिर 42 वर्षीय प्रदीप कुमार माचिस की तीलियों को तराश कर उन पर देवताओं व पक्षियों की कलाकृतियां बनाते हैं। प्रदीप की ये कलाकृतियां इंग्लैंड, अमेरिका, डेनमार्क, फिनलैंड आदि देशों के संग्रहालय में धरोहर के तौर पर रखी गई हैं। अभी हाल ही में न्यूयॉर्क शहर में प्रतिवर्ष लगने वाले आउटसाइडर आर्ट फेयर अंतरराष्ट्रीय मेले में भी प्रदीप कुमार की कलाकृतियों को प्रदर्शित किया जाएगा। 16 से 19 जनवरी तक लगने वाले इस अंतरराष्ट्रीय मेले में 9 देशों के 32 शहरों से 61 कला दीर्घाएं एवं संग्रहालय भाग ले रहे हैं। जहां अंतरराष्ट्रीय रॉ विजन पत्रिका ने अपने बूथ पर प्रदीप कुमार की सूक्ष्म कलाकृतियां को प्रदर्शन के लिए रखा हुआ है। 

सम्बंधित ख़बरें