यदि सीबीएसई एग्जाम रद्द हुए तो इन 3 तरीकों से घोषित किए जाएंगे नतीजे http://www.mahamediaonline.com

यदि सीबीएसई एग्जाम रद्द हुए तो इन 3 तरीकों से घोषित किए जाएंगे नतीजे

नई दिल्ली [ महा मीडिया ] सीबीएसई बोर्ड एग्जाम पर देशभर के स्टूडेंट्स की नजरें टिकी हैं. परीक्षाएं रद्द करने का मामला सुप्रीम कोर्ट में है, जिस पर आज गुरुवार को अंतिम फैसला लिया जाना है. दरअसल, कोरोना वायरस के चलते स्थगित की गईं सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाएं 1 से 15 जुलाई तक कराने का फैसला किया गया है. लेकिन कुछ पेरेंट्स ने एग्जाम रद्द करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी थी. इसके बाद कोर्ट ने सीबीएसई को पक्ष रखने के लिए 23 जून तक का वक्त दिया था. 23 जून को बोर्ड ने कोर्ट से कुछ और मोहलत मांगी, जिसके बाद शीर्ष अदालत ने 25 जून के लिए सुनवाई टाल दी. अब सीबीएसई बोर्ड आज कोर्ट को एग्जाम रद्द करने या नहीं करने को लेकर किए गए अपने फैसले से अवगत कराएगा.ऐसे में अब सभी स्टूडेंट्स की निगाहें सुप्रीम कोर्ट  की सुनवाई पर टिक गई हैं. सुनवाई गुरुवार को दोपहर 2 बजे शुरू होगी. इसी सुनवाई में सीबीएसई  कोर्ट के समक्ष अपना पक्ष रखेगी. अगर बोर्ड एग्जाम रद्द करने का फैसला करता है तो देखना दिलचस्प होगा कि स्टूडेंट्स को किस तरह प्रमोट किया जाता है. हम आपको ऐसे तीन तरीके बता रहे हैं, जिनके आधार पर परीक्षा रद्द होने की सूरत में दसवीं और बारहवीं के नतीजे घोषित किए जा सकते हैं.
ऐसे निकल सकता है परिणाम-
1. इंटरनल असेस्मेंट
दसवीं और बारहवीं की लंबित परीक्षाएं रद्द होने की सूरत में सीबीएसई बोर्ड इंटरनल असेस्मेंट के आधार पर स्टूडेंट्स को प्रमोट कर सकता है. देश के कई राज्यों के शिक्षा बोर्ड ने ऐसा किया है और सीबीएसई भी इस विकल्प को आजमाने पर विचार कर सकता है.
2. प्री बोर्ड के नंबर
इंटरनल असेस्मेंट के अलावा केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई के पास प्री बोर्ड एग्जाम के औसत के आधार पर छात्र-छात्राओं को नंबर दिए जा सकते हैं. ये सीबीएसई के पास रिजल्ट घोषित करने का दूसरा तरीका है.
3. जो एग्जाम हो चुके हैं, उन्हें आधार बनाकर
इसके अलावा एक विकल्प ये भी है कि सीबीएसई के जो पेपर हो चुके हैं, उनमें किए गए प्रदर्शन के आधार पर स्टूडेंट्स को रद्द किए गए पेपरों में नंबर दिए जा सकते हैं.
सीबीएसई बोर्ड दसवीं और बारहवीं की लंबित परीक्षाएं रद्द करने का फैसला लेता है तो स्टूडेंट्स को नंबर सुधारने के लिए परीक्षा में बैठने का मौका दिया जा सकता है. इसके अनुसार, बोर्ड इंटरनल असेस्मेंट के आधार पर नतीजों का ऐलान कर भी देता है तो भी जो स्टूडेंट्स अपने नंबरों में सुधार के लिए पेपर देना चाहते हैं, उन्हें ये सुविधा दी जा सकती है. हालांकि नंबर सुधारने के लिए पेपर का आयोजन बाद में किया जाएगा.
 

सम्बंधित ख़बरें