फ्रांस को गूगल देगा एक अरब डॉलर

www.mahamediaonline.comकॉपीराइट © 2014 महा मीडिया न्यूज सर्विस प्राइवेट लिमिटेड

पेरिस [ महामीडिया ]फ्रांस में कॉरपोरेट टैक्स धोखाधड़ी के मामले में Google को बड़ी कीमत चुकाना पड़ी है। खबर है कि इस केस की जांच खत्म करने के लिए Google 1.07 अरब डॉलर (करीब 7602 करोड़ रुपए) देने को राजी हो गया है। कोर्ट में हुए समझौते के तहत Google यह रकम फ्रांस सरकार को चुकाएगा। टैक्स धोखाधड़ी के लिए Google 50 करोड़ यूरो का जुर्माना भरेगा। वहीं कर विभाग के अन्य आरोपों को खत्म करने के लिए 46.5 करोड़ यूरो का भुगतान किया जाएगा। Google पर 2011-14 के बीच कॉरपोरेट कर में धोखाधड़ी करने का आरोप था। कंपनी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा, हमें खुशी है कि उससे फ्रांस में कई साल से चल रहा टैक्स विवाद खत्म हो गया है।फ्रांस के बजट मंत्री गेराल्ड डारमैनिन और न्यायाधीश निकोल बेलुबेट ने समझौते का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि यह फ्रांस प्रशासन द्वारा बीते दो साल में की गई मेहनत का परिणाम है।यह समझौता ऐसे समय में हुआ है जब फ्रांस व अन्य यूरोपीय देश दिग्गज डिजिटल कंपनियों के टैक्स को लेकर अमेरिका से चल रहे विवाद का हल निकालने में जुटे हैं।अमेरिका की अन्य प्रौद्योगिक कंपनियों की तरह Google का भी यूरोपीय मुख्यालय आयरलैंड में है। बड़ी कंपनियों को आकर्षित करने के लिए वहां कॉरपोरेट टैक्स मात्र 12.5 फीसद ही है। फ्रांस समेत कई अन्ययूरोपीय देशों का कहना है कि इससे कंपनियां भारी मुनाफा तो कमाती हैं, लेकिन उचित टैक्स नहीं भरती हैं। इसी के चलते जुलाई में फ्रांस की संसद ने नया विधेयक पारित कर प्रौद्योगिक कंपनियों के लिए नई टैक्स दरें तय की थीं। ब्रिटेन सरकार भी ऐसा ही करने की योजना में है।फ्रांस में 2015 से चल रही थी जांच सबसे पहले 2015 में फ्रांस के एंटी-फ्रॉड प्रॉसिक्यूटर ने Google के खिलाफ जांच शुरू की थी। 2016 में पेरिस स्थित Google के मुख्यालय की तलाशी ली गई थी। इस अभियान का नाम 'ट्यूलिप' रखा गया था जिसमें सैकड़ों पुलिसकर्मी व विशेषज्ञ शामिल थे।